Thursday, 27 February 2014

जीवन सिर्फ बहाव में जीने की कला है -(Note )

ध्यान दीजियेगा ! इस संसार की अंतिम परिणिति सिर्फ राख़ ही है , उस राख की मात्रा चाहे जो भी हो 

तो किसी भाव या सम्बन्ध या शरीर के बाल की खाल निकालते समय (धज्जियाँ उधेड़ते समय ) अपनी तार्किक बुध्ही को अवश्य ये समझा दें कि " जीवन सिर्फ बहाव में जीने की कला है , 
संघर्ष  नाम है प्रयास   तैरते रहने का , किसी प्रतिस्पर्धा का नाम नहीं " । यदि तर्को से प्रहार करेंगे और अपने बागीचे के हर छोटे बड़े पेड़ की जड़ खोदने का प्रयास करेंगे तो अंततोगत्वा दिमाग भले ही संतुष्ट हो जाए (जो हो नहीं सकता ) पर दिल ज़रूर खाली हो जायेगा (जो अनुचित है ). और ये अवश्य याद रखें , भाव से जीवन व्यतीत हो या बुध्ही से , दोनों का अंत राख़ ही है। इस मृत्यु की शून्यता में सब समां जाता है सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड इसमें सिमट जाता है फिर हम तो उस अनुपात में बिंदु भी नहीं। 

कृष्ण ने ५ इंद्रियों को घोड़ो की संज्ञा दी है , १- दृष्टि २- श्रवण ३- वाणी ४- बुध्ही ५ स्पर्श , और इनकी डोर जिनके हाथो में है वो है भाव। । और जो इनसबको जनता है वो ही है सूक्ष्म शरीर या मन. और ध्यान दीजियेगा , इस मन और बुध्ही से परे जो ऊर्जा है वो ही है आत्मा या चेतना। 



ये पांच घोड़े , अर्जुन और कृष्ण , संकेत मात्र संकेत इस शरीर और इस शरीर में वास करती ऊर्जा के। 



जीवन के प्रारम्भ से पहले शुन्य , म्रत्यु के बाद शुन्य , इस जीवन के छोटे छोटे प्रसंगो की कथाओं के ताने बाने में शुन्य , एक सांस से दूसरी सांस के मध्य शुन्य। किसी भी संघर्ष के अंत में शुन्य ही है , किसी भी यात्रा के अंत में शुन्य ही है , शुन्य के सिवा कुछ नहीं। 


इस शून्यता को ह्रदय में स्थान दीजिये। और अनावश्यक उपायों में ऊर्जा को उलझने कि व्यर्थता को जानते हुए कर्त्तव्य निभाना ही कृष्णा को और अर्जुन के चरित्र के मर्म को समझना है।

इन पे विचार करें , ह्रदय में स्थान दे और अपने जीवन के बहाव में स्वयं का सहयोग करें। सम्पूर्ण सहजता और सरलता के साथ बिना आत्मिक आवरण के। ज्ञान और भाव के उचित सामंजस्य के साथ जीवन व्यतीत करें।

ॐ प्रणाम 

Wednesday, 26 February 2014

Soulful Conversation among Grandpa and Grand son (Note )




Relationship , between generations , tells the beautiful story of development of chain , which is based up on believes and passing those believes Gradually ... every generation have some few from passed and many from generated by themselves . so that flawlessness is continued , but with in the time , collected need to weed .
After few generation wise child need to says to his grandfather ," O Grand pa , i respect your believes whosoever collected by you from your grandparents without Objections . and so they did same from their Grandpa's , but now time to weed . Garden is Beautiful limited and overloaded from Burden of believes . will you help me please .

O' no, Dear Grand Pa ! Isn't it , i have respect you and love you much and i know your sacrifices also regarding commitments religious and for family flow , i can take all believes religiously for your heart sake .but all are stones for me and how can do same Mistakes whatever make by elders , how may i pass Stones to another generations as a regular part of religious development flow .

I can not do this again n again , Grand Pa , i want peace , i want love , i want not religion , want to be true Spiritual , Only Spirituality is pertaining to the soul, religion is for mass . i will lost in Religion , and i get myself in spirituality .

Will you suggest me ; how can i help myself ?

Do you think , what will get said by generous grand pa to his soulful grand son !!

Yes ! Exactly !

Tuesday, 25 February 2014

Time tales and your's collected bundle of Believes -Note

Be with you , explore your own Kingdom of God ; Believes and Beliefs under time tales : 

So, you are asking ... what happens after death ? what happens after die you .. very first i am going to say whatever you , you do not know , so all options is up to you believe it or disbelieve , whatever i am going to tell you . , i feel vary bad when situation come believe me or not , ir is same you are with me or against me , i do not like that , but you ask , what happens , but if you really want to know above story , you must have to know , most important to know what is happening to this life now . if you know this if you know this peace of life you know every thing about existence .

so how to know your self ! if i tell you you are soul you are beautiful you are love , you will say God is love , but how do you know , you will tell Krishna tells , Buddha tells , Jesus tells , but how do you know ? this is not disrespect but it is question from you .

Krishna was Jesus Buddha was 2000 years before , they live wonderful life , they said and they go .

Love is Human emotion , people if not love in their heart how they exported , Human can love immensely , if they no prejudice why it should come from heaven . if you have dog n home you love him immensely, dog is love no question .. i know but , ' god love you , i can not say . ' i am not saying he is not but how do you know you do not know ! this is not disrespect or indiscretion , this is to from how do you grow up , otherwise you have bundle of believes , , two wonderful believes grow up and get clash , both are know they are under believe . Both are Innocent , cause they do not do anything under crime , they act under their fixed believes , they are real religious people .

in one example , before attack on USA by Taliban , they live under innocence , nice guys they were , just before the Buddha statue were blasted that was the time . because attack was imminent they call for press conference about 8 of them after questioning by reporters to them , why , n what , about Buddha statue and about dealing with woman , and you are torturing this n that . whatever questions asking from reporters they reply Innocently , ' see this is not under crime , this is written here in holy book Koran , this chapter ...d......d........d..... and this is our believe and we just doing that .
when we looked them and their patterns of believes they genuinely saying it . they are not pretending people because they are taking lives , how group people take lives without great believes , they are not doing to just making up things , they are just believes it . why people take their lives that have no meaning to them !

it means a lot of them they firmly in Believe , isn't it .

but you think it is utter nonsense , m i right ! but it is not so for them ...

same as here other religious believes in world ...........

So here what i am saying lets not go with believe systems ,lets explore life by self . whatever you know initially there different phases of different great lives , Initially , they understand one thing they share their thought of , and out of context it can mean many things but after time it is completely out . time get changed Society get different parameters .. have many things different later .... it get different Opinions and analysis ...... actually during the marketing phase of Jesus , he talked about everyone to take them to heaven my father is in heaven or my god is in heaven , but later they said the heaven the kingdom of God is within you . and i am here with you .

yes or on!

he did right ! when number of people come with them , and every body was thinking he was taking them some where he turned around and said the kingdom of god is within you ... if it is with in you , you need method and way to turn invert . not about going some where .. whatever he might said it was totally out of context after passing years , some people get twisted again n again .. of few pieces of sayings without taking a whole context . what they said it could be completely different meaning tells by them , in that time . Look , it can happens always with anybody they tells to anybody .

Krishna , Buddha , Jesus and many more , they lived wonderful lives no question about that , but it your knowing your telling still a story , its beautiful n inspiring story , but still a Story , Story can entertain you , inspire you , but " can not delivers you " , 






that only can do your own experience not believes , only when you turn invert and you find " Kingdom of God " , only than it delivers you .

Om Pranam

Monday, 24 February 2014

Meditation and how Meditation works Scientifically on Minds Body and Souls - note

Meditation is the your own " Inner play ground " where thoughts run free, and nothing is out reach , you feel you have tremendous power . .

floating. flying. drifting.

The feeling is that of weightlessness and Inner freedom without outer controls

Gravity is not the only thing that drags us down. We all have our baggage, and get weighed down by several things.

Alcohol, cigarettes, and substance abuse is done by many all over the world to feel free again, from the gut-wrenching pains of life. only to feel weightless.

all are the way to give feel you of freedom and weightlessness. , and same if we get feel in meditation than ! what you say ? do not force to quit do not attempt to discourage only do space for acceptance of new expressions , the new dimension , which can turn you automatic .... smoothly , softly , without knowing you ... Believe it ! 





One can slips again  in negatives , but no problems , it give you strength to come back again on Positivism .

you may catch up with Interesting Book , Good music , or nature walks , these are another name of Brilliant Meditation ..

The conscience began to take steps upward. Have you seen a wailing baby, and how it stops only if it's held by its mother? It felt like that.

Once you start moving upwards, you get these amazing ideas. No, not like discovering electricity. They are more like impulses, with a very positive ring to them.

With pure feel of ," get ready, idiot ! it's now or it never." (pure means with any prejudice and pre n fixed judgments )

Actually Meditation is what you are , its brings from you only , and make a place to enter other aspects to give flow of life , and give you balance with all positivism , it may fire from you, it may water from you or it may air or it is also earthy matters from you ... its depends where dis-balance is forcing you for Imbalance . so that we can say " You are the Mirror of your own " and every healing are within you only . just need to knowing secret powers of Inner . 





You see, it wasn't the physical speed of the body that mattered. It was the mere act of running, or sitting in meditations and the context, which made feel like ," it was flying."



it is very Scientific , nothing is Magical , only under gravity to get weightless through meditation .. through your own inner being . through your own power with in .

It is weightlessness. To sit without a care in the world. though you knew I was out of the pit.

People often give their own definitions to scientific terms, and here's me defining the term 'infinite'.

Infinite is the number of things you can do to enjoy life, at any time, in any circumstances.

Infinite is the extent to which you can feel, and live.

No other conditions are applied.

with all best wishes _()_ Om Pranam

A spine and spiritual , emotional Growth signs (Kundalni) - Note

A spine is Merudanda , axis of Body can say center of the Universe, either Human being can live as biological entity or they can transform himself almost center of Universe .... Spine is one dimension of determines which direction you go , with in the spine you would know two whole both side of spine and in these channels ...... right one is Ingla and left is Pingla ; passes in this root , which connect with two sides of Brain it is also explained in Science of right brain and left brain .... 













































it is known with many names , either you can say Shiva aur Shakti , Or you can say Yen n Yang Or you can say Feminine and Masculine Energy or two Duality of Existence in Non Duality .

This is the basic of physical reality Of Nature , in middle is empty space called sushumna , now bringing the balance between two , it makes to handle and effective in life , it will make you life
aspects , Sushumna have various kind of qualities . fundamentally Sushumna is attribute less , it has no quality of its own it is empty space , you can create anything you want to do . , once is energy center in sushumna is Vairagya , mean No Raga , means No Colors ,Total Transparent .. means , if you live with red colors you are red ., if you are live with green you are green , same with Blue , yellow too , but Nothing sticks to you . No color is stick on you . Only it is in state of Vairagya , than you dare to explore all dimensions of Colors without sticking whenever you will live here , because if any color starts to stick to you you have prejudice this right this is wrong ... any one is stuck you you will resist to go another color , you will get judgmental . it will restrict flow of life .

so all mechanism is built in fundamentally in the Spine , not in the Brain , if you manipulate your spine ....in certain way you can control many functions of Brain .......................

and during explaing all ,

Sadguru Goes speechless for moment ,

they lost words for minute ..

after some time ..

they continue again , ' Sorry now i can not explain More On this Subject , they Smiles and said , ' i can Blow your Head to touch your Spine. i will touch your Spine and you get float in realities ... Because Spine is a root ..

So when you do any Kriya aur Yoga , except in sleeping , its Good to keep your Spine Erector this way you can do many things .................................... Many things ...... "

Om Om Om

_()_

with water drop and bells Sound ( Tibetan sound ) - Dhayn -12




today's evening meditation;




Call for all friends , Sitting for peace and relaxation , with 

bells and water dropping sound .... 

duration 59:59


http://youtu.be/6FdkszK9W5Y




( start Music ) 




as we have share earlier also , 

set your limit (duration) and Interest of sitting or laying according to comfort . and availability of time .

Om 
.


close eyes ....... Start Soulful meditation Journey with deep breaths ..... Inhale and exhale slowly and deeply ..... 

feels breaths are going light ............

and you are in deep Inner place ....

relaxed ................... there ................................... stay there ....

float there ..................... 

with every dropping sound , ................. your worries your stresses are leaving you ............................
.
.

in each bell sound , calmness is entering in you 
.
.

each thought give you positivity 
.
.

and in your surroundings floating A deep relaxing pure Fragrant aura , which is covers with white light .....
.
.

relax 

.
.

relax

.
.

relax 

as you feel stay here ...

Now try to come back , ..................... slowly .......................slowly .................................................. slowly 

.
.

relax ... and stay here 

touch your eyes with palms 

open eyes 

merge yourself with current surroundings 

Amen!

तीसरी आँख ... कुण्डलिनी .... भाव और आप : (abstract In Hindi and jaggi vasudev in english )



ॐ 


जिसको हम सभी तीसरी आँख के नाम से जानते है , या फिर शिवा का तीसरा नेत्र कहते है , हमको जरुरत है समझने की कि आखिर वो है क्या !! आप इसको इसके शाब्दिक अर्थ या फिर तार्किक रूप से नहीं ले सकते , अक्सर व्यक्ति इसको इसके शाब्दिक अर्थ से ले के तर्क के माध्यम से समझाना चाहते है आयामों को तर्क से नहीं बल्कि कथाओ के माध्यम से समझाने की और संजोने की चेष्टा की जाती रही है , आप ऐसे समझे कि तीसरा नेत्र वो आयाम है वो ऊंचाई है जहा पर पहुँच के व्यक्ति को एक नयी साफ़ सुथरी दृष्टि मिलती है , जहाँ उसके सोच और विचार को नजरिया मिलता है जीवन के प्रति , बिलकुल नए आयाम में , ये तीसरा नेत्र जब विक्सित होता है , तो सिर्फ अंदर ही नहीं बाह्य जगत के प्रति भी दृष्टि बदल जाती है , व्यतक्ति कि सामान्य दृष्टि सिर्फ बाहर ही देख पाती है , और बहुत सीमित दृष्टिकोण से। । अब ये जिज्ञासा कि आखिर इसको एक शरीर के भाग के साथ ही क्यूँ जोड़ा गया है , साथ चारो में जो छठा चक्र है अज्ञान चक्र वो मस्तक के मध्य में है दो भौं के मध्य ........ वास्तव में ये आँख अध्यात्मिक अनुभव की है।

आप सभी इस मूलभूत बात से वाकिफ होंगे , जानकारी होगी कि सम्पूर्ण अध्यात्मिक यात्रा , गुणात्मक विचारगत वृध्ही करते हुए अपनी अध्यात्मिक यात्रा अन्यतम स्तर पे पहुँचते है ; है ना ! आप इसको योग द्वारा करें या फिर कुण्डलिनी जागरण द्वारा अथवा ध्यान द्वारा , मूलभूत वैचारिक अर्थ सिर्फ यही है कि सीमित शारीरिक स्थिति के द्वारा असीमित उच्च संभावनाओ में प्रवेश करना है।

" तो अगर आपकी ऊर्जा को समझे प्रथम चक्र मूलधारा से , खाना और सोना , ये सबसे अधिक अनिवार्यता है . इसके आलावा आप खुछ नहीं जानते , यदि आपकी ऊर्जा स्वधिष्ठान्ना में विकसित हो रही है तब आप इस शारीरिक संसार को मनोरंजन के साथ जीते है , विभिन्न विषयों में। यदि आपकी ऊर्जा मणिपुर में विकसित हो रही है तब आपमें संकल्प कि शक्ति आती है आप में कुछ पाने कि इक्षा जगती है। यदि आपकी ऊर्जा अनाहत चक्र में जागृत होती है , आप रचनाकार होते है कलाकार होते है । यदि आपकी ऊर्जा विशुध्धि चक्र में विकसित ह रही है , आप वाणी के ऊर्जा स्रोत होने लगते है सिर्फ शारीरिक नहीं मानव कि शक्ति विभिन्न अप्रदर्शित स्रोत का पुंज है। जब आपकी चक्र यात्रा अज्ञान चक्र पे आती है तो आपमें दृष्टिगत विचारगत सफाई आने लगती है।

तब आप ( INTELLECTUALLY)बौद्धिकता की दृष्टि से विषय को समझने लगते है अध्यात्मिक रूप से समझने लगते है तब आपको सांसारिक जीवन के सुख दुःख प्रभावित नहीं करते , पर फिर भी आप एक्सट्रिक नहीं है , आपको जीवन का सौंदर्य अनुभव नहीं परन्तु अब आप में भावनात्मक संतुलन है , मूलाधार से अज्ञान तक पहुँचने के कई रास्ते और तरीके है। परन्तु अज्ञान से सहस्त्रा तक पहुँचने का कोई रास्ता नहीं यह पथविहीन पथ है ..............................................................................."

यही कारन है कि अधिकतर लोग शांति के बारे में कहते समझते दिख सकते है , क्यूंकि वो अज्ञान तक आये है , इसलिए वो अंदाजा लगाते अपना दृष्टिकोण आप तक पहुंचाते है , कोई तरीका है ही नहीं , बस एक छलांग है अनंत में और बिना वजह आप आनंद से भर जाते है। फिर आपको बाहर से आनन्दित होने के उपकरणों की आवश्यकता नहीं , सिर्फ एक ही शब्द है ECSTASY बिना कारन आनंदित।

कोई लॉटरी नहीं कोई बाहर खाने का आयोजन नहीं , क्यूंकि आपकी समस्त ऊर्जा से सहस्त्रधार को छुआ है , यहाँ पे अज्ञान चक्र पे आपको अपनी इस तीसरी आँखको अंदर कि तरफ घूमना होता है , और दूसरा कोई रास्ता ही नहीं , सिर्फ छलांग , या तो आप सनकी हो जायेंगे या फिर आप किसी अनदेखे में इतना विश्वास करेंगे कि आप उस छलांग को लेने को तैयार हो जायेंगे। यहाँ कोई आँख शारीरक नहीं जो खुलेगी सिर्फ आपका वैचारिक परिवर्तन होगा।

किसी ने पूछा : क्या ये इंटूटिव दिमाग के कारन अनुभव होगा ,

नहीं नहीं , दिमाग को हम पूरा उपयोग कर ही नहीं सकते , मानव उपयोग नहीं कर सकता , कुछ समय के लिए आँख बंद करके सांकेतिक तरंग को अनुभव किया जा सकता है , एक अपाहिज का कोई विशेष ज्ञान विशेष आवाज में विकसित हो जाता है , एस्ट्रोलॉजी भी या कुछ अन्य परा विज्ञानं .......................... ऐसे ही ही है , सांकेतिक विज्ञानं।

( discussion On chakras and third eye Of shiva of Jaggi Vasudev , you can hear in english also In below link )






http://youtu.be/9kL5mS7MD4I

Om

Saturday, 22 February 2014

lets gather for today's evening meditation - General mental peace - dhyan 11

Nature is best healer and best to serve Peace and love 

Be with yourself , let's come out from anxieties with every exhale , and inhale , peace , calmness and be merged with nature .... 

http://youtu.be/eMWeQWGla0Y



this video have natural Birds sound and 11;02 35 in length... 


                 

start Music and Do enjoy Meditation 

sit as long and as feel in posture , you feel comfortable.

take deep breaths , feel merged in deep with in .............. breaths are going light n easy ....

Just remind yourself , every going breath in is giving energy and positivism to you and every coming out breath is taking out Pains and Poison from you ,

every meditation must give you peace , calmness sharpness and vision to move ahead In life . for sure ... 






Amen !

Spirituality and Physical & Emotional pains ....(Hindi ) Note (Osho )

** महावीर को एक तरफ तीर्थंकर का सम्मान मिलता है, वह भी सारे सुखों का इकट्ठा अनुभव है; और दूसरी तरफ असह्य पीड़ा भी झेलनी पड़ती है, वह भी सारे दुखों का इकट्ठा संघात है। 

** रमण को एक तरफ हजारों-हजारों लोगों के मन में अपरिसीम सम्मान है। वह सारा सुख इकट्ठा हो गया। और फिर कैंसर जैसी बीमारी है, सारा दुख इकट्ठा हो गया।

समय थोड़ा है। सब संगृहीत और जल्दी और शीघ्रता में पूरा होता है।

इसलिए ऐसे व्यक्ति परम सुख और परम दुख दोनों को एक साथ भोग लेते हैं। समय कम होने से सभी चीजें संगृहीत और एकाग्र हो जाती हैं। लेकिन भोगनी पड़ती हैं। भोगने के सिवाय कोई उपाय नहीं है।

** रामकृष्ण भी मरते वक्त कैंसर से मरे। गले का कैंसर था। पानी भी भीतर जाना मुश्किल हो गया, भोजन भी जाना मुश्किल हो गया। तो विवेकानंद ने एक दिन रामकृष्ण को कहा कि आप, आप कह क्यों नहीं देते काली को, मां को? एक क्षण की बात है, आप कह दें, और गला ठीक हो जाएगा! तो रामकृष्ण हंसते, कुछ बोलते नहीं। एक दिन बहुत आग्रह किया तो रामकृष्ण ने कहा, तू समझता नहीं। जो अपना किया है, उसका निपटारा कर लेना जरूरी है। नहीं तो उसके निपटारे के लिए फिर आना पड़ेगा। तो जो हो रहा है, उसे हो जाने देना उचित है। उसमें कोई भी बाधा डालनी उचित नहीं है। तो विवेकानंद ने कहा कि न इतना कहें, इतना ही कह दें कम से कम कि गला इस योग्य तो रहे जीते जी कि पानी जा सके, भोजन जा सके! हमें बड़ा असह्य कष्ट होता है। तो रामकृष्ण ने कहा, आज मैं कहूंगा।

और सुबह जब वे उठे, तो बहुत हंसने लगे और उन्होंने कहा, बड़ी मजाक रही। मैंने मां को कहा, तो मां ने कहा कि इसी गले से कोई ठेका है? दूसरों के गलों से भोजन करने में तुझे क्या तकलीफ है? तो रामकृष्ण ने कहा कि तेरी बात में आकर मुझे तक बुद्धू बनना पड़ा है! नाहक तू मेरे पीछे पड़ा था। और यह बात सच है, जाहिर है, इसी गले का क्या ठेका है? तो आज से जब तू भोजन करे, समझना कि मैं तेरे गले से भोजन कर रहा हूं। फिर रामकृष्ण बहुत हंसते थे उस दिन, दिन भर। डाक्टर आए और उन्होंने कहा, आप हंस रहे हैं? और शरीर की अवस्था ऐसी है कि इससे ज्यादा पीड़ा की स्थिति नहीं हो सकती! रामकृष्ण ने कहा, हंस रहा हूं इससे कि मेरी बुद्धि को क्या हो गया कि मुझे खुद खयाल न आया कि सभी गले अपने हैं। सभी गलों से अब मैं भोजन करूंगा! अब इस एक गले की क्या जिद करनी है!

व्यक्ति कैसी ही परम स्थिति को उपलब्ध हो जाए, शरीर के साथ अतीत बंधा हुआ है; वह पूरा होगा। सुख-दुख आते रहेंगे, लेकिन जीवन्मुक्त जानेगा, वह प्रारब्ध है। और ऐसा जान कर उनसे भी दूर खड़ा रहेगा; और उसके साक्षीपन में उनसे कोई अंतर नहीं पड़ेगा। उसका साक्षी-भाव थिर है।

"और जिस प्रकार जग जाने से स्वप्न की क्रिया नाश को प्राप्त होती है, वैसे ही मैं ब्रह्म हूं, ऐसा ज्ञान होने से करोड़ों और अरबों जन्मों से इकट्ठा किया हुआ संचित कर्म नाश पाता है।" 


Osho

Friday, 21 February 2014

सात रंग स्वप्न और स्वप्न के अंदर का स्वप्न (माया या महामाया ) note

संसार के शुरुआत की कल्पना और साथ ही एक विशाल महा नायक की कल्पना , नायिका , खलनायिका और इस कल्पना या फिर स्वप्न का हर नायक और खलनायक अति बलवान .....  कभी न हारने वाले नायक और नायिका ...... 



ध्यान दीजियेगा , कल्पना यानि की सपना , और सारी बिखरी हुई कड़ियों का मिलना शुरू हो जाता है , सात रंग संसार के पटल पे बिखरने लगता है , संसार का पटल यानि की मानस , मनस और मस्तिष्क का गठबंधन। ……… और शुरू होता है अंतहीन सपनो का सिलसिला। मानव मन के पास ज्ञान की पृष्ठभूमि है और कल्पना की उड़ान है। और यही है उसके गुथे संसार का ताना बाना। उसका खुद के ही जीवन से रोज रोज कुछ सीखना और वृहत से उसका मिलान करना , जमा जमा के कदम रखना , और यही है उसके अस्तित्व और उसके स्वप्न लोक की कथा।

मनोहारी स्वप्न लोक , रोजमर्रा कि तकलीफों से खुशियों से जुडी जो उसको रोज ही याद दिलाता है कि वो यहाँ सदा के लिए नहीं , फिर उसने विपरीतताओं में जीवन को बहते देखा , यहाँ से उसने संघर्ष सीखा , पर सब कुछ एक जैसा नहीं , परिस्थितिया बदली , और कथा पटकथा यहाँ तक पात्र भी बदल गए। सब कुछ अनिश्चित , जो किया था कल वो आज व्यर्थ , आज जो करें वो कल काम आएगा भी कि नहीं। पता नहीं ! इन अनिश्चित्तयों ने भय को जनम् दिया और भय ने उस महानायक को जनम दिया , महानायक के जनम से पाया गया ऐसे तो ये मानव किसी कि मानता नहीं पर महानायक का भय इसको नियमो में सिमित करता है। महानायक के साथ महाशत्रु की कल्पना भी लाज़मी है।

और इन सब जीवन की अनिश्चितताओं से जूझते हुए मस्तिष्क और मन के साथ इंसान का सामना हुआ अपनी ही अच्छाईयों और बुराईयों के साथ , जो निश्चित ही उसी भय कि उपज है जिसको अनिश्चितता कहते है , जैसे लोभ को जनम दिया उसकी हर दिन उभरती जरूरतों और उसकी रोज रोज घटती शारीरिक क्षमताओं ने , जिस कारन आवश्यकता से अधिक संग्रहण क्षमता का विकास हुआ , द्वेष वैमनस्य और हताशाओं ने जन्म दिया क्रोध को , रोज अपने आगे मिटते हुए उसके अभिन्न उसके ही जैसे अन्य प्रिय वस्तुओं ने मोह को पोषित किया। ये तो था कि संक्षिप्त में चाहत का सिलसिला , अब शुरू हुआ महत्वाकांक्षाओ का सिलसिला असीमित , पेट की उठती भूख के सामान , अंतहीन। ........... जीवन के साथ ही समाप्त होने वाले सुख और दुःख के ताने बाने।

पर सबसे ज्यादा उसको तोडा म्रत्यु के दृश्यों ने , कभी पूर्ण उम्र पे तो कभी अकाल , उसके सारे हौसले यहाँ पस्त हुए , उसकी सीमित क्षमताओ का उसको ज्ञान हुआ , तब उसकी कल्पना में महानायक का जन्म हुआ , अब महानायक है तो दूसरा सिर भी मौजूद होना ही है , यानि कि महाखलनायक , एक बार नायक और ख़लनायक को पात्र मिले तो अद्भुत गाथाओं और विजय पताका फहराने कि अलग ही दास्ताँ शुरू हो गयी। धर्म में अधर्म में सब तरफ इन्ही नायक और खलनायको कि कहानिया बुलंद हो गयी , झुकने वाले झुकते चले गए , ताकतवर और बलशाली। धर्म और प्रबल , अधर्म भी अधिक प्रबल। समाज को नैतिक कहानियों से बांधने कि चेष्टा। बालक को बालपन से चरित्र कि शिक्षा। सब सहनीय हुआ पर म्रत्यु विषय सबसे बड़ा और असहनीय हुआ , और साथ में ये भी अहसास कि कितना भी शक्ति शाली बन जाओ म्रत्यु से शक्ति शाली कोई नहीं। पर इंसान हार कैसे माने ? लगा दी अर्जी अपने महानायक के सामने , पर दाल नहीं गली। अगर दाल गल जाती तो महानायक को मनुष्य के मानस से हटा पाना असम्भव सा होता , जैसा आज भी है क्यूंकि उसे लगता है कि १% ही सही महानायक उनकी सुनते है , और महाखलनायक को धराशायी करते है। सिर्फ महाखलनायक को ही नहीं रोज मर्रा में सर उठाने वाले खलनायको को भी उनके महानायक पस्त करते है मात्र उनके आगे अर्जी लगाने भर से।

लगा कुछ तो है , जो सबसे अलग है , यहाँ अध्यात्म ने पदार्पण किया , अध्यात्म ने मनुष्य की चेतना को नए अर्थो में प्रस्तुत किया , जो महा नायक और महा खलनायक कि कल्पना से सर्वथा अलग थी। एक चेतना और एक चेतना का प्रस्फुरण , और उस चेतना से अनेक चेतनाओं को जोड़ना , और उनको जोड़ने के लिए विभिन्न विधिया भी बनती चली गयी। जब कि आधार , सिर्फ सहजता और सरलता से आत्मस्वीकृति ही था।

क्या करे इंसान जो है इंसान को सपने देखने कि जन्मजात आदत है , उसका जन्म ही एक बड़े सपने के अंदर हुआ , और जैसे ही जन्म हुआ सो गया , फिर उठा फिर सो गया , सदियों से वर्षों से यही दिनचर्या अब उसके खून में मिल गयी , उठता है भागता है और सो जाता है , और हर बड़े सपने में छोटे छोटे सपने यूँ उसे भागते है है जैसे हर सपना वास्तविक ही हो. पर अंत में हर बड़े सपने में देखा गया छोटा सपना सपना ही साबित होता है , और इन सपनो में सपने और उनमे भी सपने देखने कि श्रृंखला अनंत है। जीवन की शुरआत एक बड़े सपने से और म्रत्यु उसी सपने का बड़ा अंत।

जैसेकभी भी इसका प्रयोग आप कर सकते है आप जब सोने जा रहे होते है तो तनिक इस जागरूकता के साथ सोएं कि मैं अब सोने जा रहा हु , जैसे ही आप नींद में गिरेंगे , ये आभास आपसे दूर हो जायेगा कि आप सोने गए थे , वो जीवन उसकी परेशानिया उनसे युध्ह , उन सपनो में भी महानायक और महा खलनायक पैदा हो जायेंगे। और सपना टूटा , तो आप स्वयं पे हँसेंगे। और इस बड़े सपने में फिर आप खो जायेंगे रोजमर्रा की भाषा में जिनको दिनचर्या कहते है

…… ज्ञानी जन कि वाणी में इसी को माया , माया का सम्मोहन या सम्मोहन निंद्रा भी कहा जाता है , ये ऎसी भयानक निद्रा है कि स्वयं आपके महानायक भी आपके आगे खड़े होक आपको समझाएं तो नहीं समझा पाएंगे , आप उनसे भी कहेंगे , स्वामी पहले मेरी ये इक्षा पूरी करो फिर मैं आपकी बात और आपकी सत्ता को मानु!

जाने अनजाने अपने इसी महानायक भाव के अंर्गत हम अपने सद्गुरु का चयन और पद प्रदान करते है , यही कारन है कि सदगुरु वो चाहे याके ना चाहे , उसको भगवान् का दर्ज मिलता ही मिलता है , समर्थक बनते ही बनते है और चूँकि समर्थन है तो असहमति भी जरुर है , तो धाराएं भी बनती है। उनके बाद मूर्तियां बनती ही बनती है , और एक नयी पूजा का अध्याय शुरू होता ही होता है ....... और फिर वही कहानी फिर वो ही चक्का माया का बिना रुके घूमता ही रहता है। 





माया महा ठगनी हम जानी , तिरगुन फांस लिए कर डोले बोले माधुरी बानी , माया महा ठगनी हम जानी।। जरा इसको कबीर जी ने इस तरह से पूरा कहा है > 
तिरगुन फांस लिए कर डोले
बोले माधुरी बनी
केसव के कमला वे बैठी
शिव की भवन भवानी
पंडा के मूरत वे बैठी
तीरथ में भाई पानी
योगी के योगिन वे बैठी
राजा के घर रानी
काहु के हीरा वे बैठी
काहु के कोड़ी कानी
भक्तन के भक्तिन वेह बैठी
ब्रह्मा के ब्राह्मणी
कहे कबीर सुनो भाई साधो
यह सब अकथ कहानी 


इसी जागृत स्वप्न निंद्रा को कथा कहनियों में विशेष स्थान मिला है , जो जादू टोने सी लगती है , लुभावनी , मनोहारी , बच्चे देखते है हँसते है , कुछ के नए सपने शुरू हो जाते है। और आप और हम इनको अनदेखा करते है , जैसे हमारी पहचान ही नहीं।

एक प्रश्न आपके लिए , ये स्वयं आपसे ही पू
छियेगा और स्वयं को ही जवाब भी देना है। क्या सचमुच सत्य इतना दुरूह है , या हम सरल होने से घबराते है , सहजता हमको डराती है क्युकि हमको आवरण ही पसंद है 

आज इतना ही 

ॐ प्रणाम

Thursday, 20 February 2014

प्रकृति में और आपके जीवन में सात रंगो की उपस्थिति स्वाभाविक :(Note )

प्रकृति प्राकृतिक है ....... वो आपकी इक्छा से नहीं , अपनी पृकृति से कार्य करती है , नियम से कार्य करती है , उसका नियम सार्वभौमिक है , बृहमांड से बाधित है , इसलिए यदि आपकी इक्छा में और आपके कार्य में फर्क होगा तो आपको एक बार न भी पता चले , प्रकर्ति से छुप नहीं सकता , वो भी आपकी प्रकृति अनुसार आपको दुगना करके वापिस कर देती है , इसलिए कोई भी छल और बल या कपटता यहाँ काम नहीं करती , सिर्फ और सिर्फ अंतर्मन का समर्पण और सच्ची प्यास … वो सब समझती है , और इंतजार में भी है जिस छन आपअपने कृत्यों से खाली होने लगते हो और आपमें संज्ञान प्रवेश करता है प्रकृति हर छण तत्पर है वो थकती नहीं और न ही उसके रुकने का कोई समय , जिस क्षण वो आपको खली पाती है भरने का कार्य शुरू करदेती है आपके लिए दुगना तिगुना करके आपका ही भाव आपको वापिस कर देतीहै , जैसे बहता हुआ जल , जैसे ही गड्ढा देखता है भरने लगता है उसको भर के ही आगे बढ़ता है वैसे ही आपको भी गड्ढा तैयार रखना है , उसका जल तो निरंतर बह रहा है।

बस ध्यान देने वाली बात ये है , आप में आज जो भी भाव प्रवेश कर रहा है , आपको वो ही दुगना करके वापिस मिलेगा। तो भावो के प्रवेश स्थल पे ही आपको पहरेदार बिठाना है। 



यही कारन है कि आपसे कहा जाता है सकारात्मक तरंगो को स्थान दीजिये , सकारात्मकता का स्वागत कीजिये , सकारात्मक तरगों को अपने आस पास अपने प्रारंभिक प्रयास द्वारा प्रवेश दीजिये , बाद में ये स्वयं आपके चारो तरफ अपना घेरा बना लेंगी , और प्रकर्ति के नियम से आप परिचित है ही। फिर उन क्षणो में आप के अंदर आपके आस पास सिर्फ और सिर्फ सकारात्मक कि तरंगे ही होगी , नकारात्मकता उन तरंगो को छूटे ही नष्ट हो जायेगी। 

आपने अक्सर सुना होगा सायकोलॉजिस्ट से और बड़े बुजुर्गो से भी , कि बालक कभी वो नहीं पालन करते जो आप आज्ञा देते है , बालक आपके व्यक्तिव का अनुसरण करते है , यानि कि जो आप चाहते है वो आपकी इक्षा है , और इक्षाएं तो अनंत है ,ये तो जल में उठी तरंगों के सामान है , अनगिनत , और सतही , इक्षाओं के पूरा होने न होने की कोई गारंटी नहीं।आपकी इक्षाओं के अनुपात में। आपकी इक्षाओं का आदर हो सकता है प्रयास हो सकता है , पर उनका पूरा होना विचार की एक अलग धारा है शब्दो से ज्यादा प्रभावी तरंगे होती है , आप क्या कह रहे है और क्या कर रहे है इसमें फर्क है , आपका कर्म ज्यादा प्रबल है और प्रकृति निष्पक्ष जो आपके कर्मो से उत्पन्न तरंगो को द्विगुणित करके आपको ही लौटाएगी। आपके बालक के लिए आपका व्यक्तित्व ज्यादा प्रेरणा दायक है , ज्यादा प्रभावी है , इसलिए हर बालक अपने माता पिता का जाने या अनजाने में अनुसरण करता है , कहीं न कहीं अति सूक्ष्म रूप से ये स्वभाव संस्कार रूप में उसके अंदर प्रवेश करता जाता है और साड़ी उम्र उस से जुड़ा रह कर आपको ही वापिस ब्याज रूप में लौटता है । 

प्रकृति तो बालक से भी ज्यादा संज्ञानी है उससे कैसे कुछ भी छुप सकता है। आपकी चाहत और आपके कर्म में तुरंत भेद कर लेती है , चाहत को परे कर कर्म का फल लौटाने लगती है। आपका वयक्तित्व सिर्फ आपके घर को ही नहीं आपके आस पास पर्यावरण को भी प्रभावित करता है। आप जहा जहांजाते है आपकी तरंगे आपके साथ साथ चलती है। इस लिए आपकी चाहत और आपके कर्मो में फर्क दिखायी पड़ता है। 


पर ये होगा कब ? कैसे ? जबकी नकारात्मकता आपका साथ नहीं छोड़ रही , वो बिंदु जहाँ आपकी चेतना (समझ ) आपके साथ है और नकारत्मकता-हताशा आपके दिमाग पे दस्तक दे रही है , आपको स्वयं से लड़ाई लड़नी पड़ रही है , वो ही क्षण है जब संज्ञान ने आपका साथ नहीं छोड़ा है , और वो अंदर से कमजोर तो है पर साँसे बाकी है , यही क्षण है , जब आपकी इक्षा है कि इस स्थति से बहार आया जाए , प्रकर्ति आपके उस भाव के भी साथ थी और आपको दुगना करके वापिस दे रही थी , प्रकृति आपके इस भाव के साथ भी है , और दुगना करके वापिस दे रही है , पर जब तक रंग मिले रहेंगे , उनका प्रभाव पता नहीं चलता , इंद्रधनुष जैसे रंग हैं जब साथ छोड़ते है तो धीरे धीरे एक रंग जाता है दूसरा आता है , कल्पना कीजिये लाल रंग तेजस्विता का है पर लाल रंग क्रोधः का भी रूपक है , यदि लाल रंग नकारात्मक है और आपके अथक प्रयास से वो आपका साथ छोड़ने को राजी है , और आपने अगले रंग नीला उसका स्वागत किया है वो आप में प्रवेश कर रहा है। एक स्थति ऐसी होती है जहा ये रंग मिल रहे होते है फिर धीरे से विदा लेने वाला रंग गायब हो जाता है और प्रवेश ले रहा रंग अपना प्रभाव पूर्ण रूप से डाल पता है। 

यही है भाव : जिसको साधुजन ( संज्ञानी ) कहते है प्रकृति आपको अवसर देती है , निरंतर ...... आप चूकेंगे ; वो फिर से आपको अवसर देगी। भाव रुपी रंगो का आना जाना , पूर्ण प्राकृतिक है ये भी चंचल है। कब जाने आपके अंदर कौन सा रंग प्रवेश कर जाये ,और फिर सम्पूर्ण प्रकृति दोगुना तिगुना करके आपको आपका ही भाव देने लगे , आप फिर से उसी फेर में फंस जायेंगे ..... इस के लिए जागरूकता का मंत्र है : सगजता और संतुलन की साधना , ये भी सच है कि जब तक आपके अंदर एक भी लौकिक फेरा बाकी है और आप अभी प्रयास रत है तो फेरों के प्रवेश की सम्भावनाये रहती है। पर एक जागरण कि स्थति वो भी है जब आपको प्रयास कि आवश्यकता नहीं , अब वो स्तिथि जीवन हो गयी , सजगता आपका व्यक्तिव बन गयी सरलता आपकी आत्मा का वस्त्र बन गयी , फिर सांसारिक रंग आयेंगे जायेंगे पर आपको प्रभावित नहीं कर पाएंगे। 

और आश्चर्य की प्रकृति रंगो से भरी है स्वाभाविक रूप से तो हर जीवन में रंग तो रहेंगे ही , हर रंग अपने एक सिरे में सकारात्मकता का प्रभाव लिए हुए है और अगले सिरे में नकारत्मकता का प्रभाव शामिल है , इनमे संज्ञान ही जागरूकता / सजगता है इनके प्रवाह को समझाना और स्वीकार करना सरलता है , और समर्पण सहजता। और आपका प्रयास लगातार आपकी जागरूकता से प्रकर्ति अपनी स्वाभाव अनुसारआपको द्विगुणीत कर आपको आपका ही भाव लौटाती है। और इस तरह अंततोगतवा आप प्रकर्ति के आशीर्वाद के पात्र बनते है। 

यही है एक संज्ञानी की जीवन यात्रा का पथ , और इसमें जलते हुए दिए , और खुशबूदार पुष्प निरंतर उस आत्मा का स्वागत करते है ...............

सात रंग प्रकृति में उनका समावेश और आप पे उनका प्रभाव इस पर चर्चा बाद में करेंगे , अभी इतना ही। 

ध्यान आपकी अंतर्यात्रा को सफल ..... सहज ..... सरल ..... और..... सुगम करे , इसी कामना के साथ ... 

ॐ प्रणाम

प्रकृति के जन्म के ऋण से मुक्त सहजता सरलता के द्वार से (Note )



जल के समान तरल , सरल , शीतल ,निरंतर प्रवाहशील , ऐसा व्यक्तिव , खुद भी शीतल होता है और पर्यावरण भी उसको आशीर्वाद देता है। 
  



(कबीरा) : खड़ा बाजार में मांगे सबकी खैर
 .............ना काहु से दोस्ती काहु से बैर...

वास्तव में संसार का कोई भी व्यक्ति जिनको इस अस्सारता का अनुभव हुआ यही कहते है , " वहाँ कुछ नहीं है , तुम्हारा जो भी है वो तुमसे ले लिए जायेगा, " , निर्भार होने की सिर्फ यही एक स्थिति है।

प्याज के छिलके जैसा लौकिक गुरुर उतरता हुआ महसूस होता है , चहरे से जैसे एक एक करके नकाब स्वयं ही साथ छोड़ने लगते है , जिस छन इन नकाबो और प्याज के छिलको को अहसास होने लगता है कि स्वामी को अब मेरी आवशयकता नहीं। जैसे सूखे पेड़ से पत्ते झरते है वैसे ही आपके नकली आवरण आपका साथ छोड़ने लगते है।

और जैसे जैसे ये आपसे अलग होते जाते है , आप स्वयं को निर्भार महसूस करते जाते है , यही सारांश है जो ऊपर कहा गया।

गद्य , पद्य , कथा , ग्रन्थ , विवेचनाएं .... कितना भी लिखो पढ़ो धर्म और अधर्म पे कम है ,अपना ज्ञान अपना ही ज्ञान है , अपना अनुभव अपने ज्ञान से भी ऊपर है ,

ये संसार अथाह है असार है। वही स्थान और परिस्थिति उपयुक्त जो आपके लिए है और ज्यादा विद्वता कि स्थापना में लोग तार्किक होने लगते है। कोई लाभ नहीं तर्क में उतरने का , सच फिर भी वो ही है।

मन चंचल है , दिमाग तर्क से भरा , कोई भी एक सिरा किसी भी इक्छा का यदि पकड़ना चाहा , तो दूसरा झट करके प्रभाव बिखेरने लगता है। इक्छा का एक भी धागा अगर छूने कि कोशिश की तो माया का प्रभाव शुरू हो जाता है।

ये सम्भव ही नहीं कि सिर्फ अच्छा अच्छा ही आपकी झोली में गिरे , ये जीवन इक्छाओं से नहीं कर्मो से चलता है , और कर्म का स्रोत विचार , लेकिन धागे से सिर्फ बचनेका प्रयास ही कर सकते है , ये भी सच है कि हमारे जन्म के साथ ही ये धागे हमसे लिपटने लगते है। पर वो सिर्फ एकतरफ से होते है , धागे के दूसरे सिरे का प्रभाव तो तब पड़ना शुरू होता है जब हमारा दिमाग इनको स्वीकार करके इनके लिए प्रतिकार्य करने लगता है , लौकिक मोह के रूप में , विद्वता के रूप में प्रतिष्ठा के रूप में अहंकार के रूप में फिर जब लोग आपको न समझ पाये तो क्रोध के रूप में , ग्लानि के रूप में क्षोभ के रूप में और अंत में हताशा के रूप में ये प्रकट होने शुरू हो जाते है और जब ये धागे अति पीड़ा देने लगते है और जीवन भार सा लगने लगता है , तब तक ये आपके शरीर के वस्त्र बन चुके होते है आपके चहरे का नकाब बन चुके होते है फिर इनको समझना और खोलना और स्वयं से अलग करना , यही परा अनुभव है।

उपाय अंतर्यात्रा का एक ही है उस स्थान को छूना जो प्रादुर्भाव का स्त्रोत है , असारता को समझना , और अपनी आतंरिक शक्ति तथा जन्म के उद्देश्य तक जाना , ध्यान दीजियेगा !! ये उद्देश्य आपके लौकिक उद्देश्य और महत्वाकांक्षाओं से भरे नहीं है , प्रकृति से जुड़े है , सरल है सहज है , तो इनका परिचय भी आपको उसी अवस्था में होगा। सरलता के द्वार में प्रवेश कीजिये , सहजता वह आपका स्वागत करेगी और प्रकृति आपको जन्म के ऋण से मुक्त।

ॐ प्रणाम

आज शाम का ध्यान : Bhav Chakra / Hriday chakra -10

गद्य , पद्य , कथा , ग्रन्थ , विवेचनाएं .... कितना भी लिखो पढ़ो धर्म और अधर्म पे कम है , ये संसार असार है। ज्यादा विद्वता कि स्थापना में लोग तार्किक होने लगते है। कोई लाभ नहीं तर्क में उतरने का , सच फिर भी वो ही है। 


मन चंचल है , दिमाग तर्क से भरा , कोई भी एक सिरा किसी भी इक्छा का यदि पकड़ना चाहा , तो दूसरा झट करके प्रभाव बिखेरने लगता है। ये सम्भव ही नहीं कि सिर्फ अच्छा अच्छा ही आपकी झोली में गिरे , ये जीवन इक्छाओं से नहीं कर्मो से चलता है , और कर्म का स्रोत विचार , सिर्फ एक ही उपाय है , विचारों को विदा होने दो , विचार मूल कारण है इक्छाओं के बीजारोपण का जो दिमाग से चल कर ह्रदय में स्थित भावनाओं तक को जकड लेता है। 

सिर्फ और सिर्फ वास्तविक ध्यान ( जादूई या रंगबिरंगा चमकीला नहीं ) ही आपकी अंतर यात्रा में आपकी मदद कर सकता है। 

और वास्तव में , गुरु जन जिनको अनुभव हुआ यही कहते है , " वहाँ कुछ नहीं है , तुम्हारा जो भी है वो तुमसे ले लिए जायेगा, " ,  निर्भार होने की सिर्फ यही एक स्थिति है। 



आईये इसी सद्भाव के साथ , आज शाम का ध्यान शुरू करते है …………

जो है बोझ सब उस परम को सौंप दे , वो ही संभालेगा , अच्छा भी उसका और बुरा भी सब उसका , 

निःस्वार्थ भाव से आप एक दम शांत हो जाएँ। .............



दिए हुए लिंक का संगीत प्रारम्भ करें 


(तिब्बतन बाउल्स तथा घंटियों की ध्वनियां अत्यंत शांति देने वाली है। इसकी कुल अवधि ११ घंटे ३ मिनट ३३ सेकंड है )

अपना स्थान ग्रहण करें 

अपनी इक्छा अनुसार बैठे या लेटे

गहरी गहरी साँसे लें 

ह्रदय पे अपना सम्पूर्ण ध्यान ले जाए , ये आपका भावस्थान है , भाव चक्र यही से आंदोलित होता है और संतुलन भी यही से आता है ...................

साँसों को सहज हो जाने दे 

हल्की हो जाने दें 

अब आपकी साँसे हल्की हो रही है .................

डूब जाएँ 

तैरने दे स्वयं को 

किसी तरह की कोई रोक नहीं 

.
.
.
.
.
जब तक इक्छा हो इस स्थिति में रहे 

वापिस आने के लिए स्वयं को तैयार करे 

आहिस्ता आहिस्ता 

साँसों पे ध्यान देते हुए 

अपनी स्तिथि में वापिस आये 

आहिस्ता से अपने आस पास के वातावरण से समायोजित करें 

आँखों को आहिस्ता से दोनों हथेली से छुए

और सजग हो जाये 

ध्यान के इस अनुभव को अपने ह्रदय में ही सम्भाले अगली ध्यान कि अवस्था में ये ही आपको थोडा और आगे ले जायेगा। 
    ॐ प्रणाम

प्रकृति संतुलन चाहती है , असंतुलन उसको पसंद नहीं (Note )

कैसे भी करके , लगातार ब्रह्मांड इसी प्रयत्न में है कि उसकी धुरी का संतुलन बना रहे उसका आकाशगंगाओं से सामंजस्य और निश्चित नजदीकी और दुरी बनी रहे , ब्रह्माण्ड में घूमने वाले एक एक नक्षत्र में सामान लय बनी रहे , ये नक्षत्र एक दूसरे के चारों तरफ पूर्व निर्धारित गति से चक्कर काटते रहे … और हमारी जीवनदायिनी धरती अपनी परिक्रमा पे अपनी धुरी पे नृत्य करती रहे , इन सबके प्रयासो से हमको समय का चक्र समझने में आसानी हुई , और इस तरह विज्ञानं भी अपना काम कर पाया , यदि इनमे नियम न होता तो विज्ञानं कि गणना कैसे सही होती ? इनके नियम के कारन ही समय का विभाजन , घटी और पलों तक सम्भव हुआ , इन्ही की निश्चित गति के कारन धरती और व्यक्ति के जीवन पर पड़ने वाले खगोलीय प्रभावों का आंकलन हो सका , और कई कई जन्मो का विश्लेषण और वृत्तांत सम्भव हो सका। ये खगोलशास्त्र से ये भी चमत्कार सम्भव हुआ कि किस धरती के कोने पे किस नक्षत्र का क्या प्रभाव कब तक रहेगा , और ये सब विज्ञानं है क्यूंकि चुंबकीय प्रभाव के प्रमाण है ,

आकाशीय उथल पुथल से सारा जीवन प्रभावित होता है , सूरज और चंद्रमा तो जैसे हमारे सम्पूर्ण जीवन को ही दिशा देते है। न सिर्फ हमारे जीवन को बल्कि सम्पूर्ण पृथ्वी के जीवन को। एक एक वृक्ष , पौधा , जल थल नभ के जीव सभी इन्ही से जीवन पाते है।

हमारा अस्तित्व कितना छोटा सा है इन सबके आगे , पर हमारा कितना बड़ा योगदान हो सकता था ! इनके लिए , प्रतिदान स्वरुप। क्यूंकि लिया है अगर तो देना भी तो पड़ेगा। जीवन लिया है तो जीवन के लिए ही देना भी है। पर नहीं ! यहाँ हमारी बुध्ही स्वार्थी हो गयी , और हमने इस दिशा में सोचना गवारा ही नहीं किया । नतीजा हमारे सामने है । प्रकृति असंतुलन में आ गयी । अब क्या करे ? अभी भी नहीं सोचा तो हम ही ख़तम ! तब जा के आलसी दिमाग में ये बात आयी कि सोचना चाहिए । तब जा के करवट लेने को अभी - अभी सोचा है , जागरण से अभी भी बहुत दूर है।

यही नियम है प्रकृति का जो भी .. जितना भी लौटाएंगे भी उसका दोगुना वापिस मिलेगा , ये प्रकृति का अनकहा वादा है आपके साथ। आप असंतुलन देंगे तो प्रकृति असंतुलन ही देगी , आप संतुलन की तरफ कदम बढ़ायेंगे तो प्रकृति दोगुनी संतुलन वर्षा करेगी। जो भी प्रकृति तक मनुष्यता की तरफ से जाएगा तिगुना चौगुना हो के आपकी ही झोली में गिरेगा , इसी गणित के अनुसार लोग कहते है की सकारात्मक ऊर्जा को उत्पन्न करो , सकारात्मक ऊर्जा अपने आस पास फैलाओ। ताकि नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव कम हो सके।

पर प्रकर्ति और उसके संतुलन की मुख्य धारा से अभी अभी जुड़ना बाकी है। वास्तव में प्रकर्ति का संतुलन आखिर है क्या ? क्या सिर्फ ५ तत्वों के ही संतुलन का प्रश्न है या उससे अधिक ............................. !

जैसा सभी जानते है कि एक कार्बन की दुनिया है और एक तरंगों की दुनिया ५ तत्व मिटटी अग्नि जल वायु और व्योम में से ४ तो सिर्फ अनुभव ही किये जा सकते है मिटटी को छोड़ के , जल भी आभास देता है वायु और व्योम जैसे , फिर भी ये तत्व कार्बन के अंतर्गत ही आते है , शून्य को छोड़ के क्यूंकि आभास के साथ ये शारीरिक तृप्ति भी देते है , जैसे जल अग्नि और वायु , छठा तत्व भाव का है तरंगो का है इसमें भी सात रंगो की उपस्थिति है , इनमे भी गति है , चंचल है ब्रह्माण्ड की गति के सामान और ये भी प्राकृतिक है। इनमे तो महा संतुलन की आवश्यकता है। क्यूंकि ये तरंगित है और चंचल है। जरा से आंदोलन से अस्थिर हो जाते है।

तो जब हम संतुलन की बात करते है तो सम्पूर्ण संतुलन की बात करते है। प्रकृति आपसे सम्पूर्ण संतुलन चाहती है । शिवा और शक्ति का पूर्ण संतुलन।

जब भी आप असंतुलित होंगे , किसी भी शारीरिक या भावनात्मक स्तर पे ... आपको भान हो जायेगा , अपने असंतुलन का । इसी तरह जैसे बाह्य जगत जब असंतुलित होता है तो मौसम का मिजाज बिगड़ने लगता है , अग्नि जल वायु सभी असंतुलन होने लगता है। वैसे ही जब छठा शिवा तत्व / ऊर्जा तत्व असंतुलित होता है तो आपका सम्पूर्ण व्यक्तित्व असंतुलित होने लगता है।

फिर दोहराऊंगी , प्रकृति संतुलन चाहती है , असंतुलन में रहना प्रकृति का स्वाभाव नहीं। और तबतक संतुलन स्थापन की क्रिया में तब तक सक्रिय रहती है जब तक संतुलन न ले आये। 




और हम कितने असंतुलन प्रेमी , हालाँकि लगता है कि संतुलन में ही हम अपनी सारी शक्ति लगा रहे है , पर है बिलकुल उल्टा ,बिलकुल किसी दर्पण में दिखती सामान उलटी छाया जैसा , सिर्फ प्रकर्ति दवरा स्थापित संतुलन से हम थोडा सा जीवन ले के , बाकी सारा कर्म खुद को और प्रकति को असंतुलित करने में लगा देते है। और उसी का नतीजा हमारा और पर्यावरण का सम्पूर्ण असंतुलन है।


संतुलन शब्द को पूर्ण रूप से समझिये और उतारिये अपने सम्पूर्ण जीवन में और सम्पूर्ण धरती को भी संवारिये। हर व्यक्ति सिर्फ स्वयं को और स्वयं के इर्द गिर्द संवर ले तो धरती कितनी सुंदर हो जायेगी, इसकी कल्पना करना भी कल्पनातीत है।

ऊँ सहनाववतु
सह नौ भुनक्तु
सह्वीर्य करवा वहै
तेजस्विनाव धीतमस्तु
मा विव्दिषा वहै
ऊँ शांति शांति शांति



वेदो में वर्णित अति महत्वपूर्ण मन्त्रों में से एक मंत्र ये भी है जिसका वास्तविक अर्थ संकुचित नहीं जो सिर्फ लौकिक शिक्षा या गुरु शिष्य सम्बन्धों पे रुक जाये , वैदिक अर्थ अति वृहत है। हाँ उपयोग अपनी सुविधानुसार सु_भावना वश किये जाते रहे है। 



ऊँ हे परमात्मा
हम दोनों (शिवा और शक्ति) का साथ ही रक्षण करो
हम दोनों का पालन करो
हम दोनों साथ ही पुरुषार्थ करे
हम दोनों ही विद्या तेजस्वी हो
हम किसी से द्वेष न करे 



ऊँ शांति शांति शांति

ऊँ शांति
ऊँ शांति
ऊँ शांति

ॐ प्रणाम

Wednesday, 19 February 2014

Share facts with Small children , Osho

BELOVED OSHO, WHAT DO YOU SAY ABOUT SEX EDUCATION FOR SMALL CHILDREN?

Osho : Truth is truth, and nobody should be debarred from it. Just because children are small, do they have to be fed on lies? Is truth only for grown-ups? Does that mean truth is dangerous for the delicate consciousness of the child?

Truth is never dangerous, untruth is dangerous. And if you tell an untruth to the grown-up he may be able to defend himself; it can be forgiven. But never tell an untruth to the child, because he is so helpless, so indefensible. He depends so much on you, he trusts so much in you -- don't betray him. This is betraying! Telling any lie means you have betrayed the child.

And finally you will be in trouble. Sooner or later, the child will discover that you have been telling lies. That very day, all trust in you will disappear.

If young people start rebelling against the parents, the responsibility is not theirs, the responsibility is of the parents. They have been telling so many lies; and now, by and by, the children start discovering that they were ALL lies. And if you have been telling so many lies, even the truth that you have told them becomes suspicious. And one thing is certain, they lose trust in you. You have betrayed them, you have deceived them: you become ugly in their consciousness. Their impression of you is no good any more. In fact they will never be able to trust anybody.

That's the problem I am facing every day. When you come and become sannyasins, the problem that you have with your parents starts being imposed on me. You cannot trust me either; in a subtle way I become your father-figure. And because your parents have deceived you, who knows? I am a stranger -- if even your parents deceive you, if even parents cannot be relied upon, then how can you rely upon me?

You will never be able to trust the woman you love, the man you love. You will never be able to trust the master you surrender to. You will never in your life again be able to regain your trust. And for what has your trust been destroyed? For such foolish things.

What is wrong? Sex is a simple fact: tell it the way it is. And children are very very perceptive -- even if you don't tell them they will discover it on their own. They are very curious people.

Carl was assigned to write a composition entitled, 
"Where I came from." When he returned home from school, 
he entered the kitchen where his mother was preparing dinner.
"Where did I come from, Mama?" he asked.
"The stork brought you."
"And where did Daddy come from?"
"The stork brought him, too."
"And what about Grandpa?"
"Why, the stork brought him too, darling."
Carl very carefully made notes on what Mama had told him, and the next day he handed in the following composition:
"According to my calculations, there hasn't been a natural birth in my family for the past three generations."
Children are very perceptive; they go on watching, they go on seeing what foolishness you are telling them. And how long can you deceive them? Life is there, and life is sexual. And they are watching life: they will see animals making love, they will see birds making love.
And you may go on believing that they have never seen you making love -- you can go on believing it, but children know that their parents make love. In the beginning they may think they are fighting or something, but sooner or later they discover that something is going on behind their backs.
Why create these suspicions and doubts? Why not be true? Truth is always good, truth is always divine. Let them know things as they are.

I know a friend who was determined to have it out with his older boy and spent several hours painstakingly explaining sexual physiology to him. At the conclusion, feeling utterly exhausted and knowing that he did not want to go through it again with his younger son, he said, "And Billy, now that I've explained it to you, can I count on you passing it on to Bobby?"
"Okay Dad," said young William.
His elder son went out in search of his younger brother at once. "Bobby," he said when he found him, "I just had a long lecture from Dad and he wants me to pass on what he told me to you."
"Go ahead," said Bobby.
"Well, you know what you and I were doing with those girls behind the barn lat month? Dad wants me to tell you that the birds and the bees do it too!"

Don't be foolish, let things be as they are. Truth can never be the enemy, sexual or otherwise. Befriend truth.

And children are very understanding, they immediately accept the fact. They have no prejudices, they have no notion of right and wrong. If you tell them the truth they understand it is so and they forget all about it. And it will create a great trust in you: you never deceived them.

Sex education is one of the fundamental causes of the rift between the generations. They day the child discovers that his parents have been deceiving him, he loses all roots in trust. That is the most devastating shock you can give to that delicate system.

Go on telling the truth as it is, and don't try to philosophize about it and don't go on round and round. Tell it the way it is.
Why is there so much fear about it in you? Because your parents did not tell YOU. So you feel a little shaky, nervous, afraid, as if you are moving in some dangerous territory.

Be very simple, direct. And whenever a child enquires about anything, if you know about it, tell it. If you don't know about it, say that you don't know. There are two wrongs that you can do. One is saying something which is not so -- that is one danger. Another is saying something which you don't know.

For example, the child asks, "Who created the world?" and you say, "God." Again you are leading him into some mischief. You don't know; you are pretending that you know. Soon the child will discover that you know nothing, your God is bogus.

And the problem is not that YOUR God is proven bogus, the problem is that now the whole concept of God is proved bogus. You have destroyed a great possibility of enquiring into God. You should have said, "I don't know. I am trying to know; I am as ignorant as you are. If I find out before you do, I will tell you, if you find out before I do, please tell me."
And your son will respect you for ever for this sincerity of heart, for this equality, that you never pretended, that you never tried to show, "I know, and you don't know," that you were never egoistic.
Saying to the child that God created the world, without knowing it, is nothing but an ego trip. You are enjoying yourself at the cost of the child's ignorance. But how long can you enjoy this knowledge?
Never tell the child that which you yourself are incapable of doing. Don't tell the child, "Be truthful, always be truthful" -- because once he catches you red-handed being untruthful, you have destroyed something immensely valuable. And there is nothing more precious than trust.

And how long can you hide the fact? One day somebody knocks on the door and you say to the child, "Tell him that Daddy is not at home." And now the child knows that to talk about truth is one thing, but it is not meant to be followed and practiced. You have created a duality in him of saying something, pretending something, and being something else quite the contrary of it. You have created the split.

And if you know something -- if the child asks about sex or how children come into the world, and you know -- then simply tell it as it is. Make it as simple as possible, because the child is not asking about the physiology or about the chemistry or about the inner mechanism of sex. He is not asking about all that nonsense; that is not his interest. Don't start telling him about physiology, because in the name of sex education what they do in schools is only teach physiology. And the child is simply bored; he is not interested.
He simply wants the truth: how children come, from where they come. Just tell it. And never try to give him more information than he needs and asks form, because that will be too early. That too is happening, particularly in the West where the idea has become prevalent that children have to be given sex education. So parents are in a hurry: even if the child has not enquired, they go on pouring out the knowledge that they have acquired from books. Children feel simply bored.

Unless the enquiry has arisen in the child there is no need to say anything. When the enquiry has arisen there is no need to HIDE anything.
And it is not a question of age at all, so don't ask about small children. Whom do you call small? What age limit? Is seven years old small? Or is nine years old small? It is not a question of age; whenever the child enquires he is ready to be given the information. He may be four, he may be five, he may be seven. The more intelligent a child is, the earlier he will enquire, that much is certain. The stupid, the mediocre, may not enquire so early; he may enquire when he is twelve or fourteen. But the intelligent child is bound to enquire early, because life is such a mystery that from the very beginning the child becomes aware that something is happening. All around, life is happening, life is perpetuating itself.

He sees the eggs of the birds in the garden, and then one day the eggs are broken and the birds come out. He goes on seeing his mother's belly growing bigger and bigger, and he certainly becomes curious. What is happening? Is his mother ill or something?

And then one day she comes from the hospital with a child. And from where has the child come? It has been brought by the stork. And he sees the belly is not big anymore. Now he is puzzled: what happened to the belly?

Don't create unnecessary puzzles for children. Life is puzzling enough as it is. Life is so mysterious, the enquiry is bound to be there. But remember, the more intelligent a child is, the sooner he is going to enquire. So if your child enquires early, don't think that he seems to be dirty from the very beginning. He is not dirty, he is intelligent. If anybody is dirty, YOU are dirty. He is simply intelligent.

Tell him things as they are, and tell him the way he can understand. Don't philosophize, don't go indirectly round and round, go directly to the point. Make it as clear as two plus two is four.

And you will be surprised: once the fact has been told the child goes away and starts playing. He is not really interested anymore; he never brings the question up again. If you falsify things he will bring up the question again and again -- from this side, from that side, any excuse and he will bring up the question -- because he wants to know the fact, and unless the fact is given he is not going to be satisfied.
Only facts satisfy. Falsifications can postpone but they cannot satisfy. Osho 

Unio Mystica, Vol 1
Chapter #6
Chapter title: The Bridge of Love and Laughter