Tuesday, 26 September 2017

प्रिय कृष्ण (भक्त-खत)

प्रिय कृष्ण,

प्रेम प्रणाम  !

अब मुझे ऐसा लगता है.....  तुमसे जो मैंने मित्रता की। ....  तुमने उसे निभा दिया। ... अब मुझे ये भी लगता है  की तुम्हारी सिर्फ कोरी मित्रता को निभाना  मेरी शक्ति से बाहर है।

कान्हा , अब इसके आगे तुम्हे  तुम्हारे भक्ति भाव से  ही समझना ही पड़ेगा , मुझे अहसास है  सुदामा  हो या तुलसी मीरा हो या राधा , कोई मुनि हो या साधु या फ़क़ीर, सम्बन्ध कोई भी जोड़ें  अंत उसका भक्ति पे ही होता है।

तो क्या मेरे  भी मित्र भाव का अंत ,

न न ! अभी तो ऐसा नहीं लगता , मैं तो भक्ति भी मित्र-भाव के बिना नहीं कर पाऊँ, प्रेम भी करूँ तो मित्र भाव जरुरी है। क्या करूँ ! ऐसा  ही है मेरा मन ।  फ़िलहाल  अब तुमसे भक्तिभाव युक्त मित्रता  शुरू करते है । उम्मीद है  इसमें भी तुम मेरा साथ दोगे , वैसे ही जैसे पहले दिया।

थोड़ा नहीं बहुत स्वार्थी हूँ , जो भी करता हूँ अपने लिए ही करता हूँ , तुम्हे दोस्त बनाया , प्रेमी बनाया  और अब मालिक।  इन सभी मे मेरा ही स्वार्थ ऊपर उतर आया , चाहे ! तुमको पाना या  तुमको जानना हो।  


ऐसा लगता है , जैसे-जैसे तुमको जानता जाता हूँ , अपने से परिचय खुद ब खुद  होता जाता है , इसके पूर्व मेरे ही साथ ऐसा भी था जब सिर्फ अपने को समझना चाहता था...  लाख सर फोड़ा , ध्यान धरा , शास्त्र पढ़े , जिसने जैसा भी करने को शृद्धा से अक्षरशः उनका कहा  मानता गया ,  मंदिर मस्जिद जा जा के प्रार्थनाए करी, पर कुछ हासिल नहीं हुआ , और जिस दिन से  तुमसे नाता जोड़ा , तब से खुद से अपने आप जुड़ गया। 

हैं न मेरा स्वार्थ ! 


आगे भी  मेरा तुमसे सम्बन्ध मेरा ही स्वार्थ है।  इस माया से मुक्त हो जाऊं , संसार की पीड़ायें मुझे छू भी न पाए , इस मृत लोक  से तो पूरी तरह कर्जमुक्त ही हो  जाऊं , उफ़ कितने स्वार्थ है मेरे !

मुझे क्षमा करना  पर धरती पे जन्म से मेरी गति ऐसी ही है।  मित्र। ये तो तुम भी जानते हो , और अपनी बांसुरी से भी तो यही धुन सुनाते हो। अब तुम जो सुझाव दो... मैं करू , जो  राह दिखाओ... मैं उसपे चलू , तभी मैं तुम्हारा मित्र-दास-प्रेमी कहलाऊँ , धत्त!  दुनिया कहे न कहे, क्या करना , तुम कह देना बस।

तुम्हारा
(क्या सम्बोधन दूँ? क्या कहु ? के अब मेरा कोई नाम ही नहीं इस चिंगारी को तुम ही कोई अपना नाम दो )
💚💜💛🖤💗💖💙💓💖💚💛💜💝

Wednesday, 23 August 2017

Atmopanishad -translation by Dr. A. G. Krishna Warrier

Translated by Dr. A. G. Krishna Warrier
Published by The Theosophical Publishing House, Chennai

Om ! O Devas, may we hear with our ears what is auspicious;
May we see with our eyes what is auspicious, O ye worthy of worship !
May we enjoy the term of life allotted by the Devas,
Praising them with our body and limbs steady !
May the glorious Indra bless us !
May the all-knowing Sun bless us !
May Garuda, the thunderbolt for evil, bless us !
May Brihaspati grant us well-being !
Om ! Let there be Peace in me !
Let there be Peace in my environment !
Let there be Peace in the forces that act on me !

I-1. Now Angirah: The Spirit, manifests Itself, in three ways: the self, the inner Self and the supreme Self.
I-2. There are the organs – the skin, inner and outer: flesh, hair, the thumb, the fingers, the backbone, the nails, the ankles, the stomach, the navel, the penis, the hip, the thighs, the cheeks, the ears, the brows, the forehead, the hands, the flanks, the head and the eyes; these are born and these die; so they constitute the self.
I-3. Next this inner self is (indicated by the elements) earth, water, fire, air, ether, desire, aversion, pleasure, pain, desire, delusion, doubts, etc., and memory, (marked by) the high pitch and accentlessness, short, long and prolate (vowel sounds), the hearer, smeller, taster, leader, agent and self of knowledge vis-à-vis stumbling, shouting, enjoying, dancing, singing and playing on musical instruments. He is the ancient spirit that distinguishes between Nyaya, Mimamsa and the institutes of law and the specific object of listening, smelling and grasping. He is the inner Self.
I-4. Next the supreme Self, the imperishable, He is to meditated on with (the help of) the Yogic steps, breath control, withdrawal (of sense organs), fixation (of mind), contemplation and concentration, He is to be inferred by the thinkers on the Self as like unto the seed of the Banyan tree or a grain of millet or a hundredth part of a split hair. (Thus) is He won and not known. He is not born, does not die, does not dry, is not wetted, not burnt, does not tremble, is not split, does not sweat. He is beyond the gunas, is spectator, is pure, partless, alone, subtle, owning naught, blemishless, immutable, devoid of sound, touch, colour, taste, smell, is indubitable, non-grasping, omnipresent. He is unthinkable and invisible. He purifies the impure, the unhallowed. He acts not. He is not subject to empirical existence.
II-1. The good named the Atman is pure, one and non-dual always, in the form of Brahman. Brahman alone shines forth.
II-2. Even as the world with its distinctions like affirmation, negation, etc., Brahman alone shines forth.
II-3. With distinctions like teacher and disciples (also), Brahman alone appears. From the point of view of truth, pure Brahman alone is.
II-4. Neither knowledge nor ignorance, neither the world nor aught else (is there). What sets empirical life afoot is the appearance of the world as real.
II-5(a). What winds up empirical life is (its) appearance as unreal.
II-5(b) 
II-6. What discipline is required to know, ‘this is a pot’, except the adequacy of the means of right knowledge ? Once it is given, the knowledge of the object (supervenes). The ever present Self shines when the means of Its cognition (is present).
II-7. Neither place nor time nor purity is required. The knowledge ‘I am Devadatta’ depends on nothing else.
II-8. Similarly, the knowledge ‘I am Brahman’ of the Knower of Brahman (is independent). Just as the whole world by the sun, by the splendour of the Knowledge of Brahman is everything illumined.
II-9-10(a). What can illumine the non-existent, and illusory, non-Self ? That which endows the Vedas, Shastras, Puranas and all other beings with import – that Knower what will illumine ?
II-10(b)-11. The child ignores hunger and bodily pain and plays with things. In the same way, the happy Brahman-Knower delights (in himself) without the sense of ‘mine’ and ‘I’. Thus the silent sage, alive and alone, the embodiment of desirelessness, treats the objects of desire.
II-12. Existing as the Self of all, he is ever content abiding in his Self. Free from all wealth, he rejoices always: though companionless, he is mighty.
II-13. Though not eating, he is ever content, peerless he looks on all alike: though acting, he does nothing: though partaking of fruit, yet, he is no experiencer thereof.
II-14-17. Living in a body, he is still disembodied; though determinate, he is omnipresent; never is this Brahman-Knower, disembodied and ever existent, affected by the pleasant and the unpleasant or by the good and the evil. Because it appears to be encompassed by Rahu (the darkness), the unencompassed sun is said to be encompassed by deluded men, not knowing the truth. Similarly, deluded folk behold the best of Brahman-Knowers, liberated from the bondage of body, etc., as though he is embodied, since he appears to have a body. The body of the liberated one remains like the shed Slough of the snake.
II-18. Moved a little, hither and thither, by the vital breath, (that body) is borne like a piece of timber, up and down, by the flood waters.
II-19-20. By fate is the body borne into contexts of experiences at appropriate times. (On the contrary) he who, giving up all migrations, both knowledge and unknowable, stays as the pure unqualified Self, is himself the manifest Shiva. He is the best of all Brahman-Knowers. In life itself the foremost Brahman-Knower is the ever free, he has accomplished his End.
II-21. All adjuncts having perished, being Brahman he is assimilated to the non-dual Brahman, like a man who, with (appropriate) apparels, is an actor and without them (resumes his natural state),
II-22(a). In the same way the best of Brahman-Knowers is always Brahman alone and none else.
II-22(b)-23. Just as space becomes space itself when the (enclosing) pot perishes, so, when particular cognitions are dissolved, the Brahman-Knower himself becomes nothing but Brahman, as milk poured into milk, oil into oil, and water into water become (milk, oil and water).
II-24(a). Just as, combined, they become one, so does the Atman-knowing sage in the Atman.
II-24(b). Thus disembodied liberation is the infinite status of Being.
II-25. Having won the status of Brahman, no longer is the Yogin reborn, for his ignorance-born bodies have all been consumed by the experimental knowledge of Being as the Self.
II-26-27(a). Because that Yogin has become Brahman, how can Brahman be reborn ? Bondage and liberation, set up by Maya, are not real in themselves in relation to the Self, just as the appearance and disappearance of the snake are not in relation to the stirless rope.
II-27(b). Bondage and liberation may be described as real and unreal and as due to the nescience (concealment of truth).
II-28-29. Brahman suffers from no concealment whatsoever. It is uncovered, there being nothing other than It (to cover It). The ideas, ‘it is’ and ‘it is not’, as regards Reality, are only ideas in the intellect. They do not pertain to the eternal Reality. So bondage and liberation are set up by Maya and do not pertain to the Self.
II-30. In the supreme Truth as in the sky, impartite, inactive, quiescent, flawless, unstained and non-dual where is room for (mental) construction ?
II-31. Neither suppression nor generation, neither the bond nor the striving: neither the liberty seeking nor the liberated – this is the metaphysical truth.
Om ! O Devas, may we hear with our ears what is auspicious;
May we see with our eyes what is auspicious, O ye worthy of worship !
May we enjoy the term of life allotted by the Devas,
Praising them with our body and limbs steady !
May the glorious Indra bless us !
May the all-knowing Sun bless us !
May Garuda, the thunderbolt for evil, bless us !
May Brihaspati grant us well-being !
Om ! Let there be Peace in me !
Let there be Peace in my environment !
Let there be Peace in the forces that act on me !
Here ends the Atmopanishad, as contained in the Atharva-Veda

Atma Pooja Upanishad

" आत्म पूजा उपनिषद " एक बहुत छोटा सा 17 श्लोकों वाला उपनिषद है

आत्म पूजा उपनिषद ज्ञान और भक्ति के  वर्तुल को पूरा करता है , ये रहस्यमयी अदृश्य पायदान है , आध्यात्मि  साधक  प्रथम से लेकर अंतिम सूत्र तक एक एक को आध्यात्मिक तल मान के चलें -

1- आत्मपूजा उपनिषद के पहले श्लोक - 
" ॐ तस्य निश्चिन्त्नम ध्यानम" 
( ॐ का निरंतर स्मरण ही उसका ध्यान है - Ceaseless remembrance of ॐ is His meditation ) 
1- OM! TASYA NISHCHINTANAM DHYANAM
AUM! MEDITATION IS THE CONSTANT CONTEMPLATION OF THAT.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
2-आत्म पूजा उपनिषद के दूसरे श्लोक - 
सर्वकर्म निराकरण आवाहनम ( सब कर्मों के कारण की समाप्ति ही आवाहन है - cessation of the cause of all actions is the invocation or avahanm )
2- SARVA KARMA NIRAAKARANAM AAWAHANAM
CESSATION OF THE CAUSE OF ALL ACTIONS IS AAWAHANAM -- THE INVOCATION.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
3- "आत्म पूजा उपनिषद" के तीसरे श्लोक 
निश्चलं ज्ञानं आसनम ( निश्चल ज्ञान ही आसन है - non-wavering knowing is Asan or the posture )
3- NISCHAL GYANAM ASANAM
NON-WAVERING KNOWING IS ASANA -- THE POSTURE.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
4- "आत्म पूजा उपनिषद" के चौथे श्लोक- 
उन्मनि भावः पाद्यम ( मन का ऊपर की ओर बहना ही पाद्यम है, परमात्मा की पूजा के लिये जल है - the upward flow of the mind is "padyam" the holy water for divine worship )
4-UNMANI BHAAVAH PADDYAM
THE UPWARD FLOW OF THE MIND IS PADDYAM -- THE WATER OF DIVINE WORSHIP.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------

5- "आत्म पूजा उपनिषद" के पांचवें श्लोक- 
सदामनस्कं अघ्र्यम ( मन के तीर का निरंतर उसी की ओर लक्ष्य होना ही अघ्र्य है, अर्पण है. - mind constantly arrowed toward That is the offering, arghyam. ) 
5-SADAAMANSKAM ARGHYAM
MIND CONSTANTLY ARROWED TOWARDS THAT IS ARGHYAM -- THE OFFERING.
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------

6- "आत्म पूजा उपनिषद" के छठे श्लोक - 
सददीप्तिः अपार अमृतवृत्तिः स्नानम .( आंतरिक प्रकाश में तथा अंतर के अनंत अमृत में निरंतर केन्द्रित रहना ही पूजा की तैयारी के लिये स्नान है. - to be centered constantly in the inner illumination and in the unbounded inner nectar is the preparatory bath for the worship )

6-SADAADEEPTIH APAAR AMRIT VRITTIH SNAANAM
TO BE CENTERED CONSTANTLY IN THE INNER ILLUMINATION AND IN THE INFINITE INNER NECTAR IS THE PREPARATORY BATH FOR THE WORSHIP.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------

7-"आत्म पूजा उपनिषद" के सातवें श्लोक - 
सर्वत्र भावना गन्धः ( सब जगह उसी की अनुभूति ही एकमात्र गंध है. - 
the feeling of That everywhere is gandha, the only fragrance )

7-SARVATRA BHAVANA GANDHAH
THE FEELING OF THAT EVERYWHERE IS GANDHA -- THE ONLY FRAGRANCE.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
8- "आत्म पूजा उपनिषद" के आठवें श्लोक -
दृक स्वरूप अवस्थानम अक्षताः ( अपने भीतर साक्षी स्वभाव में स्थिर हो जाना ही अक्षत है, जो कि बिना निखारा व बिना टूटा ही पूजा में काम आता है - to be established in one own witnessing nature is " akshat " the unpolished and unbroken rice used for the worship ) 

8-DRIK SWAROOP AWASTHANAM AKSHATAHA
TO BE ESTABLISHED IN ONE'S OWN WITNESSING NATURE IS AKSHAT -- THE UNPOLISHED AND UNBROKEN RICE USED FOR THE WORSHIP.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
9- "आत्म पूजा उपनिषद" के नौवें श्लोक -
 चिदाप्तिः पुष्पम् 
( चेतना से भरे होना ही पूजा के लिये पुष्प हैं - to be filled with consciousness are flowers for the worship ) 
9-CHIDAAPTIH PUSHPAM
WHAT ARE THE FLOWERS FOR THE WORSHIP? -- TO BE FILLED WITH CONSCIOUSNESS.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------

10- "आत्म पूजा उपनिषद" के दसवें श्लोक - 
चिदाग्नि स्वरूपं धूपः 
( स्वयं के भीतर चैतन्य की अग्नि को जलाना ही धूप है.- igniting fire of consciousness within is "dhoop" for the worship. )
10-CHIDAGNI SWAROOPAM DHOOPAH
TO CREATE THE FIRE OF AWARENESS IN ONESELF IS DHOOP, THE INCENSE.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
11- "आत्म पूजा उपनिषद" के ग्यारहवां श्लोक - 
चिदादित्य स्वरूपम् दीपः ( चैतन्य के सूर्य में स्थित हो जाना ही पूजा के लिये दीपक है. - to be rooted in the sun of consciousness is the lamp or Deepak for the worship )
11-CHIDADITYA SWAROOPAM DEEPAH
TO BE ESTABLISHED IN THE SUN OF AWARENESS IS THE ONLY LAMP.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
12- आत्म पूजा उपनिषद" के बारहवें श्लोक - 
परिपूर्णचन्द्र अमृत रसैकीकरणं नैवेद्यम्. 
( अंतस के पूर्ण चन्द्र के अमृत को इकट्ठा करना ही नैवेद्य है. - collecting the nectar of full moon of witnessing shining in the sky of consciousness is the oblation or bhog for the worship.)
12-PARIPOORN CHANDRA AMRIT RASAIKI KARANAM NAIVEDYAM
ACCUMULATION OF THE NECTAR OF THE INNER FULL MOON IS NAIVEDYA, THE FOOD OFFERING.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
13- "आत्म पूजा उपनिषद" के तेरहवें श्लोक -
 निश्चलत्वं प्रदक्षिणं 
( निश्चलता ही प्रदक्षिणा है, अर्थात उसकी पूजा हेतु परिक्रमा है - inner stillness is the revolution or parikrma for the worship of That )
13-NISCHALATWAM PRADAKSHINAM
STILLNESS IS PRADAKSHINA, THE MOVEMENT AROUND THAT FOR WORSHIP.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
14- "आत्म पूजा उपनिषद" के चौदहवें श्लोक - 
सोहं भावो नमस्कारः 
( मैं वही हूँ, यह भाव ही नमस्कार है - feeling of 'Iam That' is the regard or salutation for the worship ) 
14-SOHAM BHAVO NAMASKARAH
THE FEELING OF I AM THAT -- SO-AHAM -- IS THE SALUTATION.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
15-"आत्म पूजा उपनिषद" के पन्द्रहवें श्लोक -
मौनं स्तुतिः ( मौन ही प्रार्थना है - silence is the prayer )
15-MOUNAM STUTIHI
SILENCE IS THE PRAYER.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------

16- "आत्म पूजा उपनिषद" के सोलहवें श्लोक -
सर्व संतोषोविसर्जनमिति स एवं वेद. ( पूर्ण संतोष विसर्जन है, अर्थात पूजा की क्रिया की समाप्ति है, जो ऐसा जानता है, वही ज्ञान को उपलब्ध है - complete contentment is the dissolution, the end of the process of the worship. One, who knows this, has attained the ultimate understanding. )
16-SARVA SANTOSHO VISARJANAMITI YA AEVAM VEDA
TOTAL CONTENTMENT IS VISARJAN, THE DISPERSION OF THE WORSHIP RITUAL. ONE WHO UNDERSTANDS SO IS AN ENLIGHTENED ONE.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
"आत्म पूजा उपनिषद" के सत्रहवें और अंतिम श्लोक -
सर्व निरामय परिपूर्णोअहमस्मीति मुमुक्षनां मोक्षैक सिद्धिर्भवति. ( मैं ही वह परिपूर्ण ब्रह्म हूँ, ऐसा जान लेना ही मोक्षोपल्ब्धि है - realizing the boundless, absolute, interconnected, indestructible and all pervading nature of the self is the salvation. )
17-SARVA NIRAMAYA PARIPOORNOHAMASMITI MUMUKSHUNAM MOKSHAIK SIDDHIRBHAWATI
I AM THAT ABSOLUTELY PURE BRAHMAN: TO REALIZE THIS IS THE ATTAINMENT OF LIBERATION.
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
the end 

Collective Talks on Sanskrit and Hindi of Anant shree / Shree Kunal ji at 2007 
source youtube https://www.youtube.com/channel/UCx7h6hya-Z1iLCdECzbLCRg
and 
another Source  Sutra collected on a set of two books :
The Ultimate Alchemy Volume Vol. 1 & 2-Osho.

Here ends the Atm puja Upanishad, 
as contained in Mandukyopnishad, at Atharva-Veda.
where described many ways Soul is Supreme and drop of ultimate Origin Ocean

Thursday, 25 May 2017

मैं समय हूँ

मैं विज्ञान शिक्षित नहीं , कला की विद्यार्थी रही हूँ , पर विषय के ऊपर बढ़ते ही सभी विषय एक हो गए , कोई अंतर ही नहीं बचा , मैं लेखिका भी नहीं न ही सगीतकार और न ही साहित्यकार और कवियत्री हूँ , जो भी है सब उसी का है , मैं तो सच में महामूर्ख हूँ , जिसको थोड़ा थोड़ा सब पता था , पर पूरा कुछ भी नहीं , उसी से जन्मे कुछ अनुभव कहना अच्छा लगता है , यूँ कहें ! उस विस्तृत से भरने के लिए थोड़ी जगह बन जाती है ।
... वो ही ध्यान में उभरे कुछ ख्याल आपसे बांटती हूँ
घडी समय पल जेहन में चल रहे है , इनके रूप , इनके मिलान , विस्तृत से और न्यूनतम से , तो ख्याल आया की एक प्राकृतिक घडी हमारे अपने अंदर भी है जो हमको हमारे अच्छे बुरे वख्त की सुचना देती है और तो और हमारी देह को भी अपने समय से संचालित करती है , जिसमे हम सब सुख अनुभव करते है , हम सबको अच्छा लगता है , भूख लगे तो खाना खा लें , प्यास लगे तो ठंडा पानी मिल जाये , नींद आये तो बिस्तर , और शौच जाना हो तो साफ़ शोचालय हो और सबसे महत्वपूर्ण है सुबह सुबह का उठना अपनी प्राकतिक घडी के अनुसार यदि उठ सके तो दिन सेहतमंद और उत्साह से भर जाता है। नकली घडी भारीपन देती है। ये हमारी देह को सुख देता है और देह की घडी इसके लिए नियम बद्ध भी है और फिर हम अपने संवेदनाओ के प्रति भी सावधान रहते है , वे सूचनाएं जो हमारा संवेदनशील सूचनातंत्र हमें देता है हम भरोसा करते है , कभी कभार हिचक होती है पर फिर भी यदि हम अपने पे भरोसा करते है , मतलब अपनी सूचनातंत्र पे भी भरोसा करते है , जिनको आप-हम नियाहत अंदरूनी अनुभव का नाम देते है। बिलकुल उसी की तर्ज पे हमने समय का मापक तैयार किया , माने मौसम के मापक , घड़ी पल के मापक , गति के माप के लिए सूर्य और चंद्र को आधार बनाया , और बना ली कृतिम घडी , इस घडी को मुख्य अनुशासन दंड की तरह उपयोग में लाया जाता है पूरे संसार में सूर्य और चंद्र की गति में भेद के कारन इसकी गति भी प्रभावित होती है जिसको उस देश की भौगोलिक स्थिति के अनुसार मिलाया जाता है , और वो देश अपनी उसी समय की घड़ी से संचालित होता है।
ये व्यवस्था इतनी ज्यादा टेक्निकल है की जितनी देह कम से कम उतनी घडिया तो है ही , या उससे भी ज्यादा , फिर वो मान और प्रतिष्ठा के अनुसार संकलित भी है , पर काम सब का एक ही है समय से अवगत करना। हमारी देह अब तक अपनी घडी को भूल चुकी है , हमारे सोना जागना उठना व्यायाम भोजन आदि सब नकली घडियो पे टिक गए। नकली घडियो ने हमें एक चीज़ में और मदद की वो है ज़बरदस्ती देह को ठेलना अलार्म के नाम पे , क्यूंकि अब काम ही नहीं चलता , अलार्म से जागना समय पे निकलना , फिर छुटी का अलार्म बोले तो माने छुट्टी मिले तो साधन भी नकली घडी से चलते है उनको पकड़ना और घर वापिस आना फिर घड़ी के बनाये समय पे सो जाना। ऐसा ही कुछ हम सबके साथ दुर्घटना घट रही है। एक घडी जो हमारी है , खास हम साथ लेके आये है और साथ लेके जायेंगे , उसको हमने अपने हठयोग की बलि चढ़ा दिया।
अब ये घड़ी भी बिगड़ती है तो हम मुश्किल में पड़ जाते है , हमारा स्वस्थ जवाब देने लगता है , तब हमें कुछ जानकार इस घडी की याद दिलाते है , और कहते है , भोरकाल में टहलना अच्छा है , फिर हल्का भोजन नाश्ते के रूप में करना ही चाहिए , दिन में गरिष्ट भोजन देह पचा नहीं पाती , दिन १२ बजे के बाद देह को अगले भोजन की आवश्यकता है तब सेहत वाला भोजन लेना अच्छा है , संध्याकाळ में सुपाच्य हल्का भोजन करना अच्छा है ,और सूर्यास्त के बाद तरल लेना ठीक है , बाकि न ही लें तो अच्छा क्यूंकि आपका पाचन तंत्र प्राकृतिक है और सूर्यास्त के साथ ही उसे विश्राम चाहिए। पर ये सब नकली घड़ी से करेंगे तो असर ज़रा ज़ोर आज़माइश वाला ही होगा। अपनी घड़ी से करेंगे तो देह सुख पायेगी। आप अपनी घड़ी पे भरोसा कर सकते है।
हमारे पुराने धुरंधर ज्ञानी ऐसे भी थे जो देह की घड़ी से गणना शुरू करके मौसम कृषि धरती की उथल पुथल और अंतरिक्ष तक की गणना कर लेते थे।
चलिए उतना न सही , पर इतना तो सोचिये की आपकी भी निहायत अपनी एक बहुमूल्य घड़ी आप में ही रखी है , जिसको आज भी योग आदि में मुख्य आधार बनाया गया है। श्वसन से बेहतरीन समय की सूक्ष्तम गणना संभव है। पलक झपकना , ह्रदय की गति , नाड़ी का फड़कना , तपकता हुआ नाभि प्रदेश
अब ..... आपकी घडी अगर उचित काम नहीं रही , या आपको संकेत दे रही है अपनी खराबी का , तो कैसे सही करेंगे ! कभी ये दृश्य संकेत देती है तो कभी अदृश्य संकेत भी देती है , दृश्य में साफ़ दिखता है , समय का ये पल....इस कारन से ..... ठीक काम नहीं कर रहा और देह पे इसका सही असर नहीं , पर.... अदृश्य कारन के लिए जब ये घडी संकेत करती है तो आपकी संवेदनशील तंरगे ही उसे पकड़ती है। वो समझती है की आपके द्वारा किस पल में , आपके द्वारा क्या काम सही नहीं हुआ , और वो नन्हा पल जो आपकी ख़राब सोच या ख़राब कर्म का साक्षी हुआ अब वो बँध गया है आपके किये उस पल की सोच में , अपनी ही घडी में घूमता सबसे छोटा चक्र अब मुश्किल में है उसके असमंजस और दुविधा के कारण ,अन्य घूमते चक्र भी प्रभावित है और अब आप सोच भी नहीं सकते ये छोटे चक्र का नन्हा पल किस कदर आपकी घडी के बड़े समय को अपनी गिरफ्त में ले सकता है।
अब देखिये ! समस्या कही और दिखाई पड़ रही है - घडी का मध्य चक्र ठीक से नहीं चल रहा अटक अटक के चल रहा है , आपकी पूरी की पूरी घड़ी की व्यवस्था उलझन में, आपकी बुद्धि के समझ के बाहर हो गया , क्यूंकि उस समयचक्र पे आपको कोई गलती नजर नहीं आ रही। कभी कभी ये ही ऐसे पल हमारे जन्मो के चक्र पे भी हावी हो जाता है , और हमारी धूमिल हुई, बिलकुल ही ख़राब हुई या के मंद हुई यादास्त की समझ के बाहर हो जाता है के गलती आखिर हुई कहाँ ! .... जन्मो की बात है ...... अब बताने वाला भी कोई नहीं , माता पिता भाई बहन सब बदल चुके। आप यकीं कर सकते है के आपकी अपनी देह की घडी के पास पूरी सूचना है , जब आप अपनी देह घड़ी को समझेंगे तो वो आपको बताएगी उसका कौन सा पुर्जा कैसे ख़राब हुआ।
जैसे घड़ी में छोटे बड़े चक्के एक दूसरे में फँस के घूमते है , वैसे ही हमारे समय के चक्के भी छोटे बड़े एक दूसरे में फंस के आगे बढ़ते है , पल घडी माह सप्ताह साल और साल साल करते युग समय के चाकऔर पे चढ़ा युग भी अंत में चार बड़े चक्र बनके घूम रहा है। सबसे बड़ा समय का पहिया इसका अपना ही चक्र है। ।
कोई बिरला पहले गति का ज्ञान ले , फिर संज्ञान में ले और फिर पुरुषार्थ से उन चक्को की गति को नियंत्रित करे , उल्टा घूमना असंभव तो नहीं पर सहज संभव भी नहीं। अथक प्रयास से गति कम ही हो जाये वो ही काफी है। इससे कर्मो को तेज गति से आगे बढ़ने में रूकावट आएगी , कम से कम बिना सोचे समझे नए कर्मो का आरम्भ तो नहीं ही होगा।
और इस तरह पिछले कर्म खपेंगे तो और नए इतनी जल्दी बनेंगे नहीं। तो कर्म को काटने की योजना आसान होगी। वोई सिद्धांत जब चढ़ी चर्बी देह से हटाने की जरुरत हो तो क्या करते है ? नयी लेना कम करदेते है या आवश्यकता पड़े तो बिलकुल बंद भी करना पड़ता है। फिर संजोयी चर्बी खपना शुरू होती है। वोई नियम तो एक ही है।
अनजान व्यक्ति जो घड़ी की बनावट से परिचित नहीं उसके लिए निदान बहुत दूर की बात है समझ ही नहीं पायेगा चक्र कैसे कैसे आपस में ही जुड़े गुथंगुथा हो के घूम रहे है , किस चक्र को छेड़ें बिना जाने और अधिक सत्यानास हो जाये। एक कुशल जानकर / एक कुशल घड़ीसाज की तरह ज़ूम लेंस के जरिये घडी के महीन से महीन चक्र में जाके मर्ज का पता लगा लेते है। और निदान भी संभव है। पर ये काम स्वयं का है उधारी का नहीं। क्युकी ये आत्मा और परमात्मा का दरबार है आपका मनुष्यनिर्मित नहीं , वहां दूसरे का किया खुद को नहीं लगता , घूस नहीं चलती , अपना कर्म अपना फल , अपना समय अपनी घड़ी और इस घड़ी में घूमते हुए जन्मो के चक्र , इस जन्म के चक्र , साल - माह - दिन - घंटा - घड़ी - पल के चक्र , खुद को समझने है , खुद को ही दुरुस्त करने है , जो दृष्टिगत है वो भी , और जो दृष्टिगत नहीं अदृश्य , है वो भी।
वो कुशलता , वो कारीगरी , सब परमात्मा ने पहले से दी हुई है।
कुछ कही से सीखने लेने की जरुरत ही नहीं।
आपकी यात्रा के सहायक, सभी उपाय , सभी यंत्र , आपके अंदर ही है , और तो और , थोड़ी गड़बड़ भी हो तो आपके ही पास निदान भी मौजूद है। पर हाँ , उसके लिए समझना तो जरुरी है की कम क्या करना है , क्या आवश्यकता से अधिक त्रास दे रहा है। फिर वोई ; इसके लिए खुद से तो मिलना ही पड़ेगा। और खुद से मिलने के लिए ...... अपना गुरु तत्व जागृत तो करना पड़ेगा, वो ही गहराई से समझायेगा ।
आपो गुरु आपो भवः
LATA TEWARI·THURSDAY, 25 MAY 2017

Wednesday, 24 May 2017

स्मरण - पुनर्जन्म

Sunday, 22 January 2017

आपो दीपो आपो भव


किसी विषय की सूचना कारन बनी जिज्ञासा / आकर्षण का ,
फिर उसको जानना कारन बना खोज का ,
फिर उस खोज में गहरे उतरना और उतर के बहुमूल्य उपलब्धि (निधि ) को इकठा करना कारन बना सर्वउपयोगिता का
और यही उपयोगिता फिर से जन्म देती है नयी खोज को , नयी सम्भावना को , नयी जिज्ञासा को और उस खोज के लिए नयी सूचनाओं को , गौर से देखिये ! अपनी धुरी पे इस लट्टू से घूमते गोल गोल घेरे को !
संक्षेप में इस उपयोगिता की अवस्था को जब आप जिज्ञासा की लंबी यात्रा के बाद उस को साकार कर पा रहे है तो तत्वगोचर अर्थात सुलभ अर्थात दृष्टिगोचर , तो आप भीड़ में विषय खोजी / वेत्ता के नाम से जाने जाते है। पर ह्रदय से आप भी अब तक जान चुके है की आप ने जो पहले से ( ज्ञात नहीं ) छुपा है उसी को जाना है , पर बड़ी बात है , छुपिछुपवल के खेल में ढूंढने का और फिर धप्पा का आनंद ही अलग है। हाँ ! इस खेल में ताकत के पलड़े असंतुलित है , एक तरफ असार , अपार , अबाध , अदृश्य महा शक्तिशाली और इधर सिमित आयु सिमित शक्ति फिर भी साहस से भरा ह्रदय और बुद्धि और पैनी दृष्टि , इसलिए अपनी कमजोर और सिमित अस्तित्व के साथ उपलब्धि मनुष्य के लिए हमेशा से प्रशसनीय रही है। क्या आपको भी वो गीत याद आ रहा है " निर्बल से लड़ाई बलवान की ये कहानी है दिए की और तूफान की " प्रशंसा और पारितोषिक आदि प्रोत्साहन और उत्साह का कार्य करते है , ये मनोवैज्ञानिक सत्य है। ये उपलब्धि बौद्धिक है तो विज्ञानं विषय को छूती है , और यही उपलब्धि अगर ह्रदय से है तो अध्यात्म की ऊंचाईयां छूती है। बहरहाल कौन कम कौन ज्यादा की चर्चा में शक्तिशाली दो कदम पीछे ही रहते है , क्योंकि ये तर्कशास्त्र में उपलब्धि अनुपलब्धि के आंकड़े और प्रमाण की प्रमाणिकता आदि और इसमें भी हार जीत का आनंद बालक्रीड़ा सा है। संभवतः योगी का खेल जरा अलग है , उसका सामना मनुष्य से नहीं केंद्र से है। इसलिए अन्य मनुष्य तो उसके प्रतिद्वंद्वी भी नहीं ! हाँ .....मित्र हो सकते है , सहचर हो सकते है , पर प्रतिस्पर्धी .... बिलकुल नहीं।
सामूहिक या आंतरिक चर्चा में जब विषयवेत्ता विज्ञानी तर्क सहित आध्यात्मि से उस की सोच का आधार माँगता है तो वास्तविक ज्ञानी आध्यात्मि हास्य से उसे मात्र बालक की दृष्टि से ही देख पाता है , नन्हा बालक जिज्ञासा में है उत्तर से प्रमाण निकालेंगे। किसका प्रमाण ! जो पहले से ही मौजूद है , और जहाँ योगी नितप्रति भेंट करते है, अनुभव करते है।
थोड़ी और विश करें ! जी हाँ ! अब डिश (एंटीना ) की बारी है ,
यहाँ विषय वेत्ता की सीमा है , उसका ज्ञान अदृश्य को उपयोगिता के लिए सुलभ करने तक है , कला सौहार्द का सूचक है , अध्यात्म की पकड़ यहाँ से शुरू होती है जहाँ विज्ञानं (जिज्ञासा नहीं पकड़ ) समाप्त होता है , उसके पहले अध्यात्म विषयों को सहारा बनाता है कभी गीत कभी संगीत कभी चित्र कभी प्रमाण संचय , आदि आदि , पर अब कोई प्रमाण नहीं , कोई विषय भी साथ नहीं। अब ! अब हम उतारते है परतों में प्रमाण रहित रहस्य की परतों में उनको अनावृत करने के लिए , और पाते है धरती की रहस्यमयी परतें , तरंगो और रंगों के रूप में वायु के जल के रूप में , इनमे छिपी ऊर्जा के रूप में। और गहरे उतरे तो पाया , इनमे भी हलके हजरे प्रभाव वाले स्तर है अर्थात घेरे है आव्रत्तियां है और सामायिक नियम बद्ध पुनरावृत्तियाँ भी है। थोड़ी और विश की , डिश को और सही किया। और गहरे उतरे तो पाया , धरती के ही तत्व अपने तत्व के पोषण का कारन बनते है देह का कारन बनते है जन्म और क्षय का कारन बनते है ,,,,अर्थात हर तत्व जो भी हम ग्रहण करते है , वो ऊर्जा रूप में अपने उसी तत्व को जा मिलता है नवजीवन के साथ। इनमे कोई मेल नहीं होता , भले ही आपकी पाकशास्त्र की कुशल रेसिपी कितनी भी रंगीन और मिलीजुली हो। आपके अंदर प्रवेश पाते ही आपके स्वयं के तंत्र उनको छन्न और अलग करना शुरू करदेते है जिसको आप पाचनतंत्र के नाम से जानते है। और व्यर्थ (जो वास्तव में परिवर्तित है व्यर्थ नहीं पर आपके लिए विष है ) मल द्वार से बाहर निकाल देते है। विषय था धरती के रहस्यमयी अदृश्य तत्व अपने ही तत्वो को जीवन देते है , वे सब पहचानते है , इनमे कोई मिलावट संभव नहीं , और यहाँ मिलावट का अर्थ आपकी अपनी देह समाप्त वो अन्य ऊर्जा पात सहन नहीं कर सकती। यानि आपकी नन्ही से देह में विशाल धरती की देह समाती है , ( ध्यान दीजियेगा ये आपकी नहीं , सिमित अवधि का उपयोग है ) और इस अवधि में धरती का पोषण आपको सुगम है। धरती आपके अंदर रहस्यमयी ऊर्जाओं संग मिल के आपकी देह के निर्माण में सहयोगी है , कैसे ! क्योंकि धरती की अपनी देह है जिसमे वो ही सब तत्व प्रचुर उपलब्ध है। मत भूलियेगा धरती स्वयं में खंड है सूर्य से अलग हुआ खंड। यहाँ याद कीजिये गया पूर्णमिदं का भाव और विज्ञानं का सिद्धान्त जो एक अनु में भी वो सब तत्व पाता है जो ब्रह्माण्ड के हैं ! और ऋषियों ने जाना- यथा पिण्डे तथा ब्रह्माण्डे
यानि अब तक आप अपनी और धरती की दैहिक अवस्था से परिचित हो चुके है। इसी प्रकार नवग्रह है और आकाशगंगाएं है। जो निरंतर विकसित हो रही है समाप्त हो रही है। ऐसा विषयवेत्ताओं द्वारा जाना जा चुका है। अर्थात यदि अनु का सिद्धान्त और उसकी सर्व व्यापकता को ही आधार बनाये तो माना जा सकता है जो जन्म ले रहा है और जिसका क्षय हो रहा है उसकी अपनी देह है जो बन रही है और मिट रही है। धरती पे वृक्ष वृक्ष की शाखाएं उसकी जीवनदायी वाहनियां जिनमे दौड़ता जलतत्व , पत्ती पत्ती तक ऊर्जा को रक्त के माध्यम से सुलभ करता जल तत्व , सब आपकी देह जैसा ही है। जिन्होंने भी ऊंचाई से देखा उन्होंने इसकी सम-तुलना धरती में फैली धमनियों से की है जिनमे जल प्रवाहित है। योगी का योग ध्यान आपके लिए कल्पना हो सकता है , पर उसे लिए उन्ही वैज्ञानिक सिधान्तो को और विशाल रूप में अनुभव करने जैसा है। जो अपने शरीर में उतर ब्रह्माण्ड में उतर जाता है , पहले वो अपनी धमनियों में रक्त कण बनता है फिर वो धरती की शिराओं में बहता है वो ही आकाशगंगा की शिराओं में दौड़ता है , पर वो ये भी जानता है के मानव बुद्धि पहले फिर विषयवेत्ता और बाद में इसी क्रम में उसके भी बाद विषय की खोज और उसकी पुनर उपयोगिता .....!

क्या कहते है आप ! यही क्रम है न !

यदि विज्ञान ये पिंड और ब्रम्हाण्ड की एकता का नियम .....खोज के बाद .....दे रहा है , "मैं" (atma) तो पहले से अनुभव लिया हूँ , क्योंकि सब मुझमे ही तो है , मैं ही मैं तो हूँ ’ इस देह में जन्मे सभी मित्र सहयात्री है , जिस ट्रैन में मैं बैठा उसी में ये बच्चा बैठा मुझसे ट्रैन का स्वरुप और प्रमाण मांगता है , कहता है इस ट्रैन में सीटें है , गलियां है , दरवाजे है , पेंट्री और ऐसे ही कई डब्बे भी है , पर क्या प्रमाण की ये ट्रैन ऐसी ही है जैसी आप कह रहे है ! लगता है अभी जिज्ञासा से भरा बच्चा है। कैसे कहें , हेलीकॉप्टर या पैराशूट से ही पूरी ट्रैक पे भागती इस ट्रैन का दर्शन सुलभ है। ट्रैन के अंदर बैठे-बैठे अंदाज ही लगा पाएंगे और प्रमाण इकठा करना आस पास के पदार्थों से ही संभव है , उसी बालक के पडोसी बालक कहते है - ‘भाई ! हम तो प्रमाण ही मानते है , और मेरे दोस्त को प्रमाण ही स्वीकार है , जो जो ये प्रमाण देता जायेगा हम मानते जायेंगे !’ ठीक है प्रमाण का अपना नजरिया , सत्य की अपनी सत्ता है ..... ऐसा ज्ञान योगी को होता है।
ऐसा अनुभव योगी को होता है
ऐसा ज्ञान साधक को होता है
और ये जानकारी बच्चे बच्चे को है।
जब ये पिंड और ब्रह्माण्ड अनुभव में आया तो जो सबसे महत्वपूर्ण बात स्पष्ट हुई की - धरती नष्ट हो रही है क्योंकि धरती की देह है ऊर्जा युक्त सौर मंडल बढ़ रहे है अर्थात उनका भी क्षय है नष्ट होंगे ही होंगे , अवश्यम्भावी है। अर्थात उनकी भी देह है , और सबको जो धारण कर रहा है उसकी भी देह है जिसमे हम कितने तुक्छ है की खुद को नजर ही नहीं आ रहे , हमारा समय भी छोटा हमारी सीमायें भी छोटी , हमारी गति भी छोटी और हमारी मति भी छोटी अब जब मति ही छोटी तो सोच बड़ी कैसे ! वो भी छोटी।
न न !!!!!
अभी रुकिए !!
अभी दो परिस्थितियों का मेल न करें !
गंध , ध्वनि , रंग और तरंग में अजीब कशिश है , जितने चाहो मेल और सांख्य आंकड़ो में उपलब्ध है हजारो लांखो करोड़ों , और हर एक के अपने सकारण बहाव भी है इसीलिए अर्थ के अनर्थ आसानी से संभव है , गंभीर या मनोरंजक खेलों में भी ऐसा ही है । गंभीर को हम राजनैतिक नाम देते है और मनोरंजक को सामाजिक।
हम्म !
छोटी यात्रा की चर्चा छोटी यात्रा पे करेंगे विषय वो ही रूप रस गंध स्पर्श पर अर्थ होंगे लौकिक रोजमर्रा के धार्मिक , सामाजिक और राजनैतिक ...... पर अभी आप बड़ी यात्रा पे है , उस यात्रा में आपकी याददास्त बड़ी है वो छोटी नहीं। संजोने की और बटोरने की आदत आपकी यहाँ की नहीं , कोई भी आदत / व्यव्हार / गुण / आकर्षण आपके अपने नहीं , यहाँ के भी नहीं , ये अति प्राचीन है और इनकी सत्ता विश्वात्मा ( जिसकी देह में आकाशगंगाएं बहती है ) में स्थिर है अर्थात उसकी भी देह है , जिसमे त्रिशक्ति वास करती है, अर्थात उन त्रिशक्ति-देह उसकी देह में ह्रदय है बुद्धि है, उस देह के ऊपर भी जो है , जो भी है , क्या नाम दें , देह रहित है फिर वो अंतहीन है क्योंकि उसी में उत्पन्न उसी में लय है। कोई भी नाम उसके साथ न्याय नहीं करेगा , समझ लें , इतना ही काफी है। वो ही महाशून्य है वो ही एक है जिसकी तरफ आप हम इक्छा से या अनिक्छा से बंधे हुए भाग रहे है। और इस विकास क्रम में यद्यपि आपकी सत्ता कुछ भी नहीं फिर भी आप उस महांश के अंश है , यानि सागर में बूँद आप है , और शिवोहम क्यों है क्योंकि उसका अंश आप में जीवित है आप में धरती जीवित है धरती के तत्व आपमें जीवित है और आप धरती पे जीवित है। इस गोल घेरे को समझने जैसा है , आप नष्ट एक अवधि में , धरती समाप्त एक अवधि में , सौरमंडल समाप्त एक अवधि में , ब्रह्माण्ड भी समाप्त एक अवधि में , ये अवधि काल का घेरा है गोल पहिया , अगर सागर और उसकी बूँद में जलतत्व एक है , अनु परमाणु या नन्हा अण्ड और वो ब्रह्माण्ड एक है , तो इस काल नामके विशाल समय के भी घडी घंटे पल एक ही है वो ही आवर्त्ती और पुनरावृत्ति के सिद्धान्त के साथ , अपनी धुरी पे गोल गोल घूमते हुए छोटे पहिये बड़े पहिये और बड़े पहिये। आपने डिजिटल नहीं यांत्रिक घडी देखी है , एक बार अनुभव कीजिये , स्विस घड़िया मशहूर रही है , और बिगबेन का भी वो ही सिद्धान्त है , दो लाईने याद आरही है " गाफिल है तू घड़ियाल ये देता है मुनादी गर्दू ने घडी उम्र की एक और घटा दी "
अपने संस्कारगत विश्वासों में जीवन पाते आप जरा इस यात्रा के महान अर्थ को जानिए तो पाएंगे सिर्फ प्रेम ही समस्त आकर्षण और ऊर्जा आपकी चेतना (जीवांश ) का आधार है। इसके अतिरिक्त सभी अनुलोम विलोम में संज्ञा सर्वनाम में विशेषण क्रिया में विभाजित है म फैले है और सर्वत्र टूटे बिखरे है . आप क्या कर रहे है , आप उन्ही टूटे टुकड़ों को जाने में या अंजानी जिज्ञासा में जोड़ रहे है। फिर संदेह में घिरते है तो फिर लगता है मोती इस माला में सही से नहीं गए , कुछ आगे पीछे हो गए फिर वो ही माला उधेड़ते है , फिर पिरोते है। सब यही कर रहे है क्या ज्ञानी जुलाहे का ताना बाना और क्या आध्यात्मि खानसामे का सतरंगी मसाले और लजीज पाकशास्त्र और क्या समग्र विषयों का ज्ञाता तो विशेष विषयवेत्ता , और क्या उत्कृष्ट राजनेता और समृद्ध धर्माचारी। पहले खुद वो इस पज़ल के ब्लाक से खेलते है फिर वो नन्हे टुकड़ो में आपको सौंप देते आप उनको वैसे ही जोड़ने लगते है। बस जन्मजन्मांतर के यही खेल है।
समझे क्या !
आपो दीपो आपो भव
प्रणाम