Sunday, 6 April 2014

कबीर - हिमालय का संगीत , Osho Hindi Talks and Kabir - (pivat ram ras lagi khumari ) 2 talks

कबीर अनगढ़ हैं हिमालय का संगीत  , उनकी वाणी में एक चोट है। दूर हिमालय के पहाड़ों पर, कुंवारे जंगलों में जो सन्नाटा है, जो संगीत है, जो गहन मौन है, जो प्रगाढ़ शांति है--वैसी ही कुछ कबीर में है। कबीर के साथ ही भारत में बुद्धों की एक नई श्रृंखला शुरू होती है।

Kabir is rustic  and raga  of Himalayas , his words hit hard. The stillness, the music, the profound silence, the unfathomable peace that exists in the distant hills of The Himalayas, in the virgin forests ... Kabir's words carry something like that. With Kabir a new chain of Buddhas begins. 




******************************************


Kabir : Buddha Aur Meera Ka Sangam 


वह घड़ी, वह संध्याकाल--जहां मीरा होश में आ जाती है और जहां बुद्ध नाचने लगते हैं, उसका नाम है--खुमारी। पीवत रामरस लगी खुमारी! 


That moment, the twilight where Meera becomes conscious, where Buddha starts dancing is called intoxication. Peevat Ramras Lagi Khumari.




No comments:

Post a comment