Monday, 20 January 2014

सुअवसर और उपयोग

जब भी पृकृति हमको किसी गहरे अनुभव से गुजरने के लिए तैयार करती है घटना के उपस्थित होते ही हम क्यूँ चूक जाते है ? कभी विचार किया है ! 

*क्यूंकि हम डर जाते है 

*क्यूंकि हमारेअंदर छलांग लगाने का साहस नहीं 

*क्यूंकि हम ह्रदय नेत्र खोल ही नहीं पाते 

अबकी बार जब भी पृकृति कि कृपा हो और वो आपको सुअवसर प्रदान करे तो चूकना नहीं .

No comments:

Post a comment