Wednesday, 11 February 2015

यौगिक संवेदनशील आहार / Yogic sentient diet

 -

जो खाद्य पदार्थ खाने के लिए और परहेज करने के लिए है, जो सबसे अच्छा स्वास्थ्य के लिए एक अधिक शांतिपूर्ण मानसिक स्थिति और आध्यात्मिक विकास के साथ सहायता करते हैं। शरीर, मन और आत्मा के विकास के लिए एक स्वस्थ आहार से अर्थ मांस की खपत या समतुल्य को कम करना ही नहीं है। उनके मन और शरीर पे प्रभाव के आधार पे है।

" प्राचीन काल में योगियों ने भोजन का वर्गीकरण उनके मन और शरीर पे प्रभाव के आधार पे किया था जो मुख्यतः संवेदनशील , क्रियाशीलता में सहयोगी और स्थिरता देने वाले होते हों। "

ये समझ की : " कैसे और कुछ खाद्य पदार्थ एक सकारात्मक या नकारात्मक तरीके से हमें प्रभावित कर सकते है , और हम योग प्रथाओं के माध्यम से अपने आप को विकसित करने के रूप में हमें अधिक तेजी से प्रगति करने में कैसे इन भोजन से मदद मिलेगी ; व्यक्ति की निजी यात्रा में सहायक है। "

शरीर और मन के सामान्य स्वास्थ्य के लिए अच्छा हैं, जो स्वाद और स्वास्थ्य के अनुसार, सूप , पेय भूख के अनुसार भोजन के लिए कुछ भी कर सकते हैं। निश्चित रूप से आत्मा ऐसे खाने के लिए तृप्त और खुश होगी ।




The Intakes Effects :-

Yogic sentient diet -

Which foods to eat and which to avoid for best health, a more peaceful mental state and to assist with spiritual development. A healthy diet for the body, mind and spirit does not only mean reducing meat consumption.

" The ancient yogis classified foods according to their effect on the body and mind into the categories of sentient, mutative and static foods. "

Understanding how and why certain foods affect us in a positive or negative way as we develop ourselves through yogic practices will help us to progress more quickly.

One can make * soups * drinks * fillers or anything according to taste and health benefits , which are good for in general health of body and mind . definitely soul will be happy to eat .

No comments:

Post a comment